पटना [भुवनेश्वर वात्स्यायन]। मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के नए कार्यकाल में उनकी प्राथमिकता में युवाओं का रोजगार और महिलाओं की उद्यमिता विशेष रूप से शामिल रहेंगी। सात निश्चय-2 के तहत मुख्यमंत्री ने चुनाव  ऐलान के दिन ही यह बता दिया था कि अगर वह पुन: जीतकर आते हैैं तो किस तरह के कार्य को वह प्राथमिकता देंगे। चुनाव अभियान के दौरान वह लगातार सात निश्चय के तहत चली योजनाएं और सात निश्चय-2 के तहत लिए जाने वाले कार्यक्रमों की चर्चा करते रहे।

बिहार में नर्इ सरकार के गठन से जुड़ी ताजा जानकारी के लिए यहां क्लिक करें

युवाओं के लिए रोजगार वाया तकनीकी प्रशिक्षण

सात निश्चय के तहत पिछले कार्यकाल में मुख्यमंत्री ने युवाओं के लिए स्वयं सहायता भत्ता, युवाओं की कंप्यूटर शिक्षा, संवाद व व्यवहार कौशल पर काम कराया था। मुख्यमंत्री का कहना है कि ये सभी कार्यक्रम जारी रहेंगे। इसके अतिरिक्त अब सरकार युवाओं को बेहतर तकनीकी प्रशिक्षण मिले इस पर अपने को केंद्रित करेगी। प्रशिक्षण इस तरह का हो कि जिससे उन्हें बेहतर रोजगार के अवसर उपलब्ध हो सकें। युवा स्वयं उद्यमी बनें। इसके तहत हर जिले में मेगा स्किल सेंटर खोलने की योजना पर काम आगे बढ़ेगा। आईटीआई एवं पालिटेक्निक में पढ़ रहे विद्यार्थियों के लिए सोलर, ड्रोन तकनीक, आप्टिकल फाइबर एवं नेटवर्किंग, ट्रांसफार्मर मैन्युफैक्चरिंग  व आईटी आदि में प्रशिक्षण की व्यवस्था की जाएगी। कोशिश यह की जानी है कि बाजार में जिस ट्रेड की मांग अधिक है उस ट्रेड में युवाओं के लिए प्रशिक्षण की व्यवस्था की जाए ताकि उन्हें रोजगार मिल जाए।

हर जिले में मेगा स्किल सेंटर व प्रमंडल में टूल रूम

युवा जो न तो किसी आईटीआई में पढ़ रहे और न ही किसी पॉलिटेक्निक संस्थान में नामांकन कराया है और कौशल से जुड़ा कोई प्रशिक्षण लेना चाहते हैैं तो उनके लिए हर जिले में एक मेगा स्किल सेंटर खुलेगा। मेगा स्किल सेंटर में एपरल मेकिंग, रेफ्रिजरेटर, एयर कंडीशनर, सोलर पैनल मैकेनिक, ब्यूटी एवं वेलनेस ट्रेनिंग, बुजर्गों एवं मरीजों की देखभाल के लिए केयर गिवर जैसे काम के लिए कम अवधि का प्रशिक्षण दिया जाएगा। इन क्षेत्रों में काफी रोजगार हैैं। मेगा स्किल सेंटर के अतिरिक्त हर प्रमंडल में सरकार युवाओं के लिए टूल रूम खोलेगी। यहां दसवीं व बारहवीं पास युवाओं के लिए दीर्घकालीन प्रशिक्षण की व्यवस्था होगी ताकि उन्हें रोजगार मिलने में सहूलियत हो।

कारोबार व उद्यम के लिए सात प्रतिशत ब्याज पर ऋण

युुवाओं के लिए सरकार केवल उच्चस्तरीय प्रशिक्षण की व्यवस्था ही नहीं करेगी बल्कि उन्हें उद्योग स्थापित करने या फिर अपना कारोबार शुरू करने को ले आर्थिक मदद भी करेगी। इसके लिए परियोजना लागत का 50 प्रतिशत अनुदान के रूप में दिया जाएगा जो अधिकतम तीन लाख रुपए तक होगा। सात लाख रुपए तक के ऋण पर सात प्रतिशत का ब्याज अनुदान दिया जाएगा।

महिला उद्यमिता पर खास फोकस, पांच लाख तक ब्याज मुक्त ऋण

नीतीश कुमार के नए कार्यकाल में महिला उद्यमिता पर खास फोकस रहेगा। इसके तहत कई विशेष योजनाएं व कार्यक्रम शुरू होंगे। महिलाओं को उनके उद्यम में परियोजना लागत का 50 प्रतिशत जो अधिकतम 5 लाख रुपए होगा, अनुदान के रूप में दिया जाएगा। अधिकतम पांच लाख रुपए तक ब्याज मुक्त ऋण दिया जाएगा।

महिला ने इंटर किया तो 25, बीए करने पर 50 हजार

उच्चतर शिक्षा के क्षेत्र में महिलाओं को प्रोत्साहित किए जाने को ले इंटर पास करने वाली लड़कियों को 25 हजार तथा स्नातक पास करने पर 50 हजार रुपए की आर्थिक सहायता दी जाएगी। क्षेत्रीय प्रशासन में आरक्षण के हिसाब से महिलाओं की भागीदारी सुनिश्चित की जाएगी। थाना, प्रखंड, अनुमंडल व जिलास्तरीय कार्यालयों में महिलाओं की भागीदारी विशेष रूप से तय की जाएगी।

हर खेत तक सिंचाई का पानी भी एजेंडा में ख्रास

नयी सरकार के एजेंडा में यह भी विशेष महत्व की है कि हर खेत तक सिंचाई का पानी पहुंच जाएगा। नीतीश कुमार ने अपनी चुनावी सभाओं में इस विषय पर खूब कहा था।

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस