पटना, जेएनएन। मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने गुरुवार को अपनी चुनावी सभाओं में लालू परिवार को मुख्य रूप से निशाने पर रखा। उन्होंने कहा कि 90 हजार लोगों को नौकरी देने वाले 10 लाख लोगों को नौकरी देने की बात कर रहे हैं। जनता ने पति-पत्नी की सरकार को 15 वर्षों का समय दिया था, लेकिन उनकी सरकार में जंगलराज, सामूहिक नरसंहार तथा अपहरण का राज रहा। 

नाम लिए बिना किया कटाक्ष

 

मुख्यमंत्री ने नाम लिए बिना तेजप्रताप यादव पर निशाना साधते हुए कहा कि पूर्व मुख्यमंत्री दरोगा प्रसाद राय की पोती के साथ क्या-क्या हो रहा है? यह किसी से छिपा नहीं है। ऐसा व्यक्ति फिर विधानसभा पहुंचने का ख्वाब देख रहा है। उन्होंने फिर सरकार बनने पर बिहार को ऊंचाई पर ले जाने की बात कही और अपनी सरकार की उपलब्धियां गिनाईं। 

...उनके शासन काल में सिर्फ और सिर्फ अपराधियों का ही था राज

उन्होंने कहा कि विपक्षी दलों द्वारा बार-बार अपराध बढ़ने की बात कही जा रही है। उन्हें यह नहीं पता है कि उन लोगों के शासन काल में सिर्फ और सिर्फ अपराधियों का ही राज चलता था। हमने बिहार में जंगलराज को खत्म किया और कानून का राज स्थापित किया। 

एनडीए के राज में गांव में बिजली, सड़क, मोबाइलः रविशंकर


चुनावी सभा को संबोधित करते हुए केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद ने कहा कि एनडीए के राज में आज गांव में बिजली, सड़क, मोबाइल है। फिर भी जंगलराज का चेहरा सामने आते ही जनता खौफजदा हो जाती है। जलसंसाधन मंत्री संजय झा और सांसद रामनाथ ठाकुर ने कहा कि मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने बाढ़ पीडि़तों को 6-6 हजार रुपये खाते में भेजकर मिसाल पेश की। 

इसबार तीन चरणों में चुनाव

कोरोना वायरस की वजह से इसबार बिहार विधानसभा चुनाव तीन चरणों में होगा। कुल 243 सीटों के लिए पहले फेज में वोट 28 अक्टूबर को डाले जाएंगे। इसके बाद दूसरे चरण में तीन नवंबर तो तीसरे में सात नवंबर को मतदान होगा। चुनाव का परिणाम 10 नवंबर को घोषित कर दिया जाएगा।

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस