पटना, राज्य ब्यूरो। Bihar Assembly Election 2020: बिहार विधानसभा के पहले चरण की 71 सीटों पर प्रचार का दौर सोमवार को खत्म हो गया है। यहां 28 अक्टूबर को मतदान होना है। इस पर देश भर की निगाहें हैं, क्योंकि कोरोना के दौरान (Corona Era) किसी आम चुनाव के लिए यह पहला मतदान (Voting) होगा। इस दौर में कुल 1064 प्रत्याशी हैं। पहले चरण में आठ मंत्रियों की प्रतिष्ठा दांव पर है। मोकामा के बाहुबली प्रत्‍याशी अनंत सिंह (Anant Singh) पर भी सबों की नजरें टिकी रहेंगी।

राज्य सरकार के आठ मंत्रियों की हाेगी परीक्षा

बिहार विधानसभा चुनाव के पहले चरण के मतदान में कृषि मंत्री डॉ. प्रेम कुमार एवं शिक्षा मंत्री कृष्णनंदन वर्मा समेत राज्य सरकार के आठ मंत्रियों की परीक्षा होनी है। पहले चरण में जिन अन्य मंत्रियों की प्रतिष्ठा दांव पर है, उनमें शैलेश कुमार, जय कुमार सिंह, संतोष कुमार निराला, रामनारायण मंडल, विजय कुमार सिन्हा एवं बृजकिशोर बिंद हैं। इस चरण में 375 प्रत्याशी करोड़पति हैं। यानी प्रत्येक तीसरा प्रत्याशी करोड़पति है। इनमें सबसे ज्यादा 41 में से 39 प्रत्याशी राजद के हैं। अनंत सिंह सबसे अमीर हैं। उनके पास 68 करोड़ से अधिक की संपत्ति है।

इमामगंज में मांझी की प्रतिष्‍ठा दांव पर

सबसे दिलचस्प मुकाबला इमामगंज सीट (Imamganj Assembly Seat) पर पूर्व मुख्यमंत्री जीतनराम मांझी (Jitan Ram Manjhi) और पूर्व स्पीकर उदय नारायण चौधरी (Uday narayan Chaudhary) के बीच होना है। मांझी अपनी पार्टी हिंदुस्तानी अवाम मोर्चा (HAM) और उदय नारायण चौधरी राष्‍ट्रीय जनता दल (RJD) के टिकट पर मैदान में हैं।

मोकामा में अनंत सिंह पर रहेगी खास नजर

पहले चरण के मतदान के दौरान मोकामा विधानसभा क्षेत्र (Mokama Assembly Seat) पर खास नजर रहेगी। यहां से बाहुबली अनंत सिंह मैदान में हैं। अनंत सिंह पहले जनता दल यूनाइटेड (JDU) के अध्‍यक्ष व मुख्‍यमंत्री नीतीश कुमार (CM Nitish Kumar) के करीबी माने जाते थे। वे जेडीयू के विधायक भी थे। लेकिन नीतीश कुमार के महागठबंधन (Mahagathbandhan) में शामिल होने के दौर में आरजेडी सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव (Lalu Prasad Yadav) के विरोध के कारण उन्‍हें पार्टी से बाहर जाना पड़ा। फिर, उन्‍होंने निर्दलीय चुनाव लड़ा और मोकामा के विधायक बने। करवट बदलती राजनीति में अब वे लालू प्रसाद यादव के साथ हैं। वे मोकामा से आरेजडी के प्रत्‍याशी हैं। बाहुबली नेता लोक जनशक्ति पार्टी (LJP) से इस्तीफा देकर तरारी सीट से निर्दलीय लड़ रहे सुनील पांडेय का दम भी देखा जाएगा।

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस