जागरण संवाददाता, कन्नौज: 62 ग्राम पंचायतों में 11.43 करोड़ रुपये भुगतान की जांच किसी नतीजे पर नहीं पहुंची है। आठ विकास खंड की 62 ग्राम पंचायतों में दस लाख से अधिक भुगतान किया गया था, जो प्रधानों ने एक से 25 दिसंबर तक खर्च की थी। यह धनराशि 25 दिन के अंतराल में प्रधानों का कार्यकाल खत्म होने के अंतिम दिन तक की गई तो सवालों के घेरे में आ गई। उपनिदेशक पंचायत कानपुर मंडल एके शाही ने इस मामले को गंभीरता से लेते हुए 31 दिसंबर को पत्र जारी कर ब्लॉकवार सहायक विकास अधिकारी को जांच के निर्देश दिए थे। आठ दिन में रिपोर्ट डीपीआरओ को उपलब्ध करानी थी और 11 जनवरी को स्वयं रिपोर्ट मांगी थी, लेकिन जांच में आनाकानी होती रही। डीपीआरओ जितेंद्र मिश्रा ने जोर दिया तो सात ब्लॉकों की रिपोर्ट मिल गई, लेकिन उमर्दा ब्लॉक की रिपोर्ट नहीं दी गई है, जबकि सबसे ज्यादा उमर्दा की 14 ग्राम पंचायतें व सबसे अधिक 2.72 करोड़ रुपये भुगतान किए गए हैं। डीपीआरओ जितेंद्र कुमार मिश्रा ने बताया कि अभी उमर्दा ब्लॉक की रिपोर्ट आनी बाकी है। भुगतान में अनियमितता नहीं मिली है। भुगतान पंचायत घर व सामुदायिक इज्जतघर में किया गया है। फिर भी रिपोर्ट के आधार पर स्क्रीनिग कराएंगे।

ब्लॉकवार भुगतान की स्थिति

ब्लॉक खर्च धनराशि

उमर्दा 2.72 करोड़

हसेरन : 1.77 करोड़

छिबरामऊ : 1.35 करोड़

गुगरापुर : 1.17 करोड़

जलालाबाद : 1.55 करोड़

कन्नौज : 1.12 करोड़

सौरिख : 95 लाख

तालग्राम : 76 लाख सिर्फ उमर्दा ब्लॉक में भुगतान

ग्राम पंचायत धनराशि लाख में

अघोष 39.096

औसेर 38.543

हरईपुर 25.997

ठठिया 25.177

मलिहापुर 19.037

किनौरा 17.588

रामपुरमंझिला 15.909

ड्योरा 14.772

अहेर 14.319

बस्ता 13.803

सिमरई 12.954

सुरसी 12.285

पैथाना 11.541

जनखत 11.413

kumbh-mela-2021

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप