वायरस से कंप्यूटर को सुरक्षित रखने के लिए एंटीवायरस सॉफ्टवेयर बेहद जरूरी है। लेकिन कई बार युवा एंटीवायरस के इस्तेमाल को लेकर उधेड़बुन में फंस जाते हैं। एंटीवायरस को लेकर कई भ्रांतियां भी हैं, जैसे एकसाथ दो एंटीवायरस प्रोग्राम्स इंस्टॉल करने से कंप्यूटर ज्यादा सुरक्षित रहता है। जबकि सच्चाई यह है कि दो एंटीवायरस प्रोग्राम्स इंस्टॉल कर लेने से वे आपस में क्लैश करने लगते हैं। डीडी के इस अंक में आइटी एक्सपर्ट बालेंदु दाधीचि युवाओं की एंटीवायरस रिलेटेड क्वेरीज के सॉल्यूशन बता रहे हैं।

मैंने एक दोस्त के कहने पर अपने लैपटॉप में दो कंप्यूटर सेक्योरिटी प्रोग्राम इंस्टॉल कर लिए हैं। लेकिन इससे मुझे लैपटॉप चलाने में काफी प्रॉब्लम्स आ रही हैं। मुझे क्या करना चाहिए?

हर्षित, नोएडा

कंप्यूटर सेक्योरिटी के लिए कई तरह के सॉफ्टवेयर प्रोग्राम्स आते हैं, जैसे एंटीस्पाईवेयर, एंटीवायरस और फायरवॉल आदि। इसके अलावा टोटल सेक्योरिटी सॉफ्टवेयर भी आते हैं। आपने शायद अपने कंप्यूटर पर किसी एक ही श्रेणी के दो सॉफ्टवेयर इंस्टॉल कर लिए हैं। इनके आपस में क्लैश करने से ही कंप्यूटर में प्रॉब्लम्स आ रही हैं। आप अपने कंप्यूटर के बेहतर सॉफ्टवेयर को रखें और दूसरे सॉफ्टवेयर को अनइंस्टॉल कर दें।

मेरे लैपटॉप की एक साल की वैलिडिटी एक माह बाद खत्म होने वाली है। मेरे लैपटॉप में इससे संबंधित एलर्ट आते रहते हैं जिसमें अकसर सॉफ्टवेयर को ऑनलाइन अपडेट करने की बात होती है। क्या एंटीवायरस प्रोग्राम की वैलिडिटी इंटरनेट के माध्यम से भी बढ़ाई जा सकती है या मुझे नया एंटीवायरस प्रोग्राम खरीदना होगा?

-श्रद्धा, नई दिल्ली

आप दोनों ही तरीके अपना सकती हैं। ऑनलाइन इंस्टॉलेशन में आप क्रेडिट या डेबिट कार्ड के माध्यम से पेमेंट कर सकती हैं। या मार्केट से ख़्ारीद कर भी एंटीवेयर सॉफ्टवेयर इंस्टॉल कर सकती हैं। इसके अलावा तीसरे विकल्प के रूप में आप कुछ विशेष एंटीवायरस सॉफ्टवेयर कंपनियों के फ्री वन इयर इंस्टॉलेशन प्लान को भी सब्स्क्राइब कर सकती हैं। इसमें आपको सिर्फ कंपनी की वेबसाइट पर जाकर रजिस्टर करना होगा।

मेरे कंप्यूटर पर गूगल ब्राउजर नहीं खुल रहा है। पिछले माह एंटीवायरस प्रोग्राम की वजह से यही समस्या आई थी और मेरी एक फ्रेंड ने यह समस्या सुलझाई थी। लेकिन अब मुझे ख़्ाुद ही यह प्रॉब्लम ठीक करनी है। उचित सलाह दें।

-कनिका, गुड़गांव

लगता है आपने अपने कंप्यूटर में इंस्टॉल एंटीवायरस प्रोग्राम में गूगल को अपसेफ कैटेगरी के रूप में मार्क कर दिया है। आपको एंटीवायरस के एप्लीकेशंस फोल्डर में जाकर गूगल को अनब्लॉक करना पड़ेगा।

मोबाइल पर ताजा खबरें, फोटो, वीडियो व लाइव स्कोर देखने के लिए जाएं m.jagran.com पर

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस