जागरण संवाददाता, पश्चिमी दिल्ली : नवरात्र के नौवें दिन भक्तों ने मां सिद्धिदात्री की विधि-विधान के साथ पूजा-अर्चना की। मां सिद्धिदात्री सिद्धि और मोक्ष देने वाली देवी हैं। मां दुर्गा के दर्शन करने के लिए कई लोग पंडालों और मंदिर में परिवार के साथ पहुंचे। महिलाओं ने मां को सिंदूर चढ़ाकर अखंड सौभाग्य की कामना की। आयोजकों ने बताया कि वे आज सिदूर दान की रस्म को अदा करने के बाद मां को विदाई देंगे।

बृहस्पतिवार को तिलक नगर स्थित कालीबाड़ी और द्वारका सेक्टर-12 स्थित कालीबाड़ी में मां के भक्तों से रौनक दिखाई पड़ रही थी। यहां भक्तों ने कतार में लगकर बारी-बारी से मां दुर्गा के दर्शन किए। कोरोना संक्रमण को ध्यान में रखते हुए सभी भक्तों के हाथ सैनिटाइज कराए गए और थर्मल स्क्रीनिंग के बाद ही मंदिर में प्रवेश दिया गया।

तिलक नगर कालीबाड़ी में नवमी के अवसर पर हवन का आयोजन किया गया। मां के भजनों और जयकारों से पूरे दिन मंदिर गूंजते रहे। घरों के साथ ही मंदिरों में सुबह से ही कन्या पूजन कर भक्तों ने आर्शीवाद प्राप्त किया। मंदिरों में भी मां के श्रृंगार, फूल, नारियल और रंग-बिरंगी चुन्नी से सजी थाल को खरीदने के लिए भक्तों की भीड़ लगी रही। नवमी का दिन होने के कारण बाजारों में भी हर रौनक दिखी।

---------------

सिद्धिदात्री देती हैं सिद्धि:

मंगलापुरी स्थित सनातन धर्म मंदिर में पुजारी पंडित सुरेंद्र दास ने बताया कि मां सिद्धिदात्री सभी सिद्धियों को देने वाली हैं। महाज्ञान की ये देवी जगत को संचालित करती हैं। इनकी आराधना करने वाले भक्तों के लिए कुछ भी अगम्य नहीं रह जाता है।

Edited By: Jagran