नई दिल्ली, जागरण संवाददाता। उज्बेकिस्तान से नई दिल्ली उपचार कराने आए एक दंपती से ठगी का मामला सामने आया है। दंपती से ठगी तब हुई, जब वे कार से विमान पकड़ने आइजीआइ एयरपोर्ट जा रहे थे। रास्ते में ठगों ने खुद को क्राइम ब्रांच का अधिकारी बताया और वारदात अंजाम देकर चलते बने। दिल्ली कैंट थाना पुलिस इस मामले की जांच कर रही है।

जानें पूरा मामला

पीड़ित दंपती की ओर से उस कार के चालक ने पुलिस को शिकायत दी जिसपर ये सवार थे। कार चालक प्रह्लाद पाल ने पुलिस को बताया कि वे द्वारका स्थित एक अस्पताल में कार चालक हैं। 22 जनवरी को ये अस्पताल से दंपती को लेकर एयरपोर्ट के लिए निकले। द्वारका से निकलने के बाद जब कैंट इलाके में ये रक्षा संपदा भवन के नजदीक पहुंचे तब इनकी कार के समानांतर एक दूसरी कार चल रही थी। समानांतर चल रही कार के चालक ने कहा कि वह क्राइम ब्रांच से है। तलाशी लेनी है। इसके बाद वह कार इनकी कार के आगे आकर रुक गई।

इसके बाद उस कार में सवार एक व्यक्ति बाहर आया और प्रह्लाद से कहा कि इस कार पर जो विदेशी दंपती सवार है, उसकी तलाशी लेनी है। इतना कहकर उसने चालक से चाबी ले ली और दंपती से बात करने लगा। इसके बाद उसने दंपती से एक बैग ले लिया। इसके पहले कि ये लोग कुछ समझ पाते, वह शख्स बैग लेकर फरार हो गया। इधर दंपती को विमान पकड़ने की जल्दी थी, इसलिए उन्होंने मामले से पुलिस को अवगत कराने के बाद सीधे एयरपोर्ट जाना मुनासिब समझा, ताकि उड़ान पकड़ सकें। बाद में चालक ने पूरे मामले से पुलिस को अवगत कराया।

बैग में थे चार हजार डालर

जो बैग ठग लेकर फरार हुए उसमें चार हजार डालर व कई कागजात थे। पीड़ित दंपती इस घटना से काफी आहत हुए।

कार का रजिस्ट्रेशन नंबर लगा पता

दिल्ली कैंट थाना पुलिस अब इस मामले में घटनास्थल व आसपास लगे सीसीटीवी कैमरे के फुटेज खंगालने में जुटी है। सूत्रों की मानें तो शिकायतकर्ता ने पुलिस को आरोपित की कार का रजिस्ट्रेशन नंबर भी मुहैया कराया है। पुलिस तकनीकी छानबीन की मदद से भी आरोपित के बारे में पता करने में जुटी है।

Edited By: Abhi Malviya

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट