जागरण संवाददाता, पूर्वी दिल्ली : जिला पुलिस ने सालों से पुलिस को चकमा देकर गांजा तस्करी कर रहे दो बदमाश भाइयों को गिरफ्तार किया है। इनकी पहचान रईस और शकील मियां निवासी इंदिरा कैंप (झुग्गी बस्ती), आइपी एक्स्टेंशन के रूप में हुई है। इनसे 24.5 किलो गांजा बरामद हुआ है। जांच में पता चला है कि दोनों भाई झुग्गी बस्ती में रहकर सालों से गांजा तस्करी का काम कर रहे हैं। दोनों ने इस काम में कम उम्र के लड़कों को भी जोड़ रखा है। इनमें रईस इंदिरा कैंप का प्रधान भी बना हुआ है। पुलिस दोनों से पूछताछ कर इनके गिरोह से जुड़े सदस्यों की तलाश में जुटी है।

पुलिस उपायुक्त जसमीत सिंह ने बताया कि झपटमारी और लूटपाट की घटनाओं में पकड़े गए ज्यादातर अपराधी नशे के आदी होते हैं। इसे देखते हुए नशे की तस्करी से जुड़े लोगों पर कार्रवाई की जा रही है। ऐसे लोगों की धरपकड़ के लिए स्पेशल स्टाफ के इंस्पेक्टर सतेंदर खारी की देखरेख में एसआइ आरएन पाठक, सुदेश राणा, एएसआइ शैलेश, नीरज, प्रमोद और जोगिदर ढाका आदि की टीम गठित की गई। टीम ने पकड़े गए अपराधियों से पूछताछ की तो पता चला कि इंदिरा कैंप में रईस और शकील गांजा तस्करी का काम करते हैं। इसके बाद पुलिस टीम ने वहां छापा मारा और दोनों को घर से ही दबोच लिया। पुलिस अधिकारियों के मुताबिक दोनों मूल रूप से बदायूं, उप्र के रहने वाले हैं। यहां करीब 25 सालों से रह रहे हैं। 1999 में पहली बार रईस लूटपाट के मामले में पकड़ा गया था। जेल से छूटने के बाद उसने गांजा की तस्करी शुरू कर दी। इसमें शकील भी शामिल हो गया। आरोपित आठ भाई हैं, इस वजह से इंदिरा कैंप में इनका दबदबा है। पुलिस यह पता लगा रही है कि अन्य भाई भी तस्करी में शामिल तो नहीं थे।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस