जागरण संवाददाता, पश्चिमी दिल्ली : दिल्ली विश्वविद्यालय (डीयू) के सभी कॉलेजों के समस्त कोर्सो में इस साल आर्थिक रूप से कमजोर (ईडब्ल्यूएस) छात्रों के लिए दस फीसद सीटे और बढ़ाई गई है। पिछले वर्ष भी दस फीसद सीटें बढ़ाई गई थी। यानि अब कुल 20 फीसद सीट आरक्षित हैं। इससे एक तरफ विद्यार्थी जहां काफी खुश हैं, तो दूसरी तरफ उन्हें ईडब्ल्यूएस सर्टिफिकेट प्राप्त करने में काफी मशक्कत करनी पड़ रही है। एसडीएम कार्यालय पर ईडब्ल्यूएस सर्टिफिकेट लेने के लिए पहुंच रहे विद्यार्थियों को कई घंटे तक इंतजार करना पड़ रहा है। एक तरफ गर्मी तो दूसरी तरफ संक्रमण का खतरा विद्यार्थियों की मुसीबतें बढ़ा रही है। वहीं कोरोना से निपटने में जुटा जिला प्रशासन विद्यार्थियों के लिए इस साल कोई खास इंतजाम नहीं कर पा रहा है। पिछले वर्ष भी ईडब्ल्यूएस सर्टिफिकेट प्राप्त करने में विद्यार्थियों को काफी परेशानी हुई थी। इस साल भी वहीं स्थिति बरकरार है। इस बाबत एसडीएम द्वारका चंद्र शेखर का कहना है कि ईडब्ल्यूएस सर्टिफिकेट प्राप्त करने में विद्यार्थियों को कोई परेशानी न हो, इसके लिए अलग काउंटर बनाया गया है। हालांकि शारीरिक दूरी का ख्याल रखते हुए एक बार में करीब पांच से दस विद्यार्थियों को ही कार्यालय में प्रवेश दिया जा रहा है। इस कारण विद्यार्थियों को थोड़ी परेशानी हो रही है, लेकिन स्वास्थ्य विभाग के दिशानिर्देश का पालन करना भी जरूरी है। बीते 15 दिनों में कई विद्यार्थियों को सर्टिफिकेट जारी किया गया है। कई विद्यार्थी ऑनलाइन भी आवेदन दे रहे हैं। वेरिफिकेशन के बाद सभी को सर्टिफिकेट जारी किया जा रहा है।

वहीं पश्चिमी जिला प्रशासन का कहना है कि फिलहाल ईडब्ल्यूएस सर्टिफिकेट जारी करने के लिए अलग से कोई व्यवस्था नहीं की गई है। पर विद्यार्थियों को कोई परेशानी न हो, इस बात का पूरा ख्याल रखा जा रहा है।

kumbh-mela-2021

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप