नई दिल्ली [शुजाउद्दीन]। मधु विहार क्षेत्र में झगड़े में साथ न देना एक युवक को भारी पड़ गया। दो लोगों ने मिलकर युवक को पीटकर लहूलुहान कर दिया और फरार हो गए। जख्मी हालत में जमाल को एलबीएस अस्पताल में भर्ती करवाया। पीडि़त की शिकायत पर मारपीट सहित विभिन्न धाराओं में प्राथमिकी पंजीकृत कर पुलिस मामले की जांच कर रही है।

इस तरह शुरू हुई बहस

जमाल अपने परिवार के साथ जोशी कालोनी में रहता है। वह एक निजी कंपनी में नौकरी करता है। वह शुक्रवार रात को खाना खाने के बाद घर के बाहर गली में घूम रहा था। उसी दौरान इलाके के रहने वाले राहुल और ऋषि आए और पीड़ित को घेर लिया। वह पीड़ित से कहने लगे कि कुछ दिन पहले जब उनका इलाके में झगड़ा हो रहा था तो उनका साथ क्यों नहीं दिया, इस पर पीडि़त ने कहा कि वह लड़ाई झगड़े में नहीं पड़ता है।

पीट कर किया लहूलुहान

आरोप है कि इतना सुनते ही दोनों आरोपित भड़क गए और उन्होंने युवक पर हमला कर दिया। उसे पीटकर लहूलुहान कर दिया, बाद में फरार हो गए। पीड़ित जख्मी हालत में अपने घर पहुंचा और मामले की सूचना परिवार को दी। परिवार ने उसे अस्पताल में भर्ती करवाया। पुलिस दोनों आरोपितों की तलाश कर रही है। 

हिस्ट्रीशीटर के पेट में लगी गोली, चल रहा इलाज

इधर लोनी के ट्रानिका सिटी थाना क्षेत्र के पचायरा गांव में शनिवार सुबह हिस्ट्रीशीटर नेपाल उर्फ बंटा को गोली लगने की सूचना उसकी पत्‍‌नी ने पुलिस कंट्रोल रूम को दी। पत्‍‌नी ने पुलिस के पहुंचने से पहले ही उसे दिल्ली के निजी अस्पताल में भर्ती कराया। ट्रानिका सिटी थाना पुलिस मामले की जांच कर रही है। इलाज के दौरान पेट से गोली नहीं मिली है। पचायरा गांव में नेपाल उर्फ बंटा रहता हैं। उसके परिवार में वह और उसकी पत्नी हैं।

पुलिस को किया सूचित

शनिवार सुबह करीब साढ़े सात बजे नेपाल की पत्‍‌नी ने पुलिस कंट्रोल रूम पर काल कर नेपाल को गोली लगने की सूचना दी। सूचना पाकर पुलिस मौके पर पहुंची। तब तक पत्नी उसे उपचार के लिए दिल्ली के निजी अस्पताल ले गई। पुलिस पूछताछ में महिला ने बताया कि नेपाल सुबह गेट के पास में लेटे हुए थे। इसी दौरान गोली चलने की आवाज आई। वह उनके पास पहुंची तो पेट से खून बह रहा था और बेहोशी की हालत में थे।

इलाज में नहीं मिली गोली

सीओ लोनी रजनीश उपाध्याय का कहना है कि कंट्रोल रूम पर गोली लगने की सूचना मिली थी। दिल्ली के मैक्स अस्पताल में इलाज चल रहा है। डाक्टरों ने जांच की तो शरीर से गोली नहीं निकली है। डाक्टरों के मुताबिक किसी नुकीली चीज से उन्हें चोट लगी है। सीओ ने बताया कि फिलहाल कोई शिकायत प्राप्त नहीं हुई है। मामले की जांच की जा रही है। आसपास के लोगों से भी गोली चलने के बारे में पता किया जा रहा है।

दर्ज हैं कई आपराधिक मामले

एसएचओ अरविंद कुमार ने बताया नेपाल के खिलाफ कई आपराधिक मामले दर्ज हैं। वह ट्रानिका सिटी थाने का हिस्ट्रीशीटर है। करीब 11 वर्ष पूर्व रीढ़ की हड्डी में चोट लग गई थी। जिसके बाद से वह बेड पर लेटा रहता है।

Edited By: Prateek Kumar