नई दिल्‍ली [ जेएनएन ]। 1990 के दशक में अपने अभिनय कला कौशल से करोड़ों लोगों के दिलों पर राज करने वाली बॉलीवुड अभिनेत्री श्रीदेवी का दिल्‍ली से भी गहरा नाता है। खासकर उनकी फ‍िल्‍म 'मॉम' की बहुत सी यादें उनके दिल और दिमाग में रही होंगी। इस फ‍िल्‍म की पटकथा दिल्‍ली के इर्दगिर्द घूमती है। इसलिए फ‍िल्‍म की शूटिंग दिल्‍ली में होना लाजमी था। लेकिन यह फ‍िल्‍म इसलिए भी सुर्खियों में रही कि इसमें दो कलाकार पाकिस्‍तान के थे। उस वक्‍त एक आतंकी घटना को लेकर भारत-पाकिस्‍तान के बीच उपजे तनाव के कारण इस फ‍िल्‍म की शूटिंग पर ग्रहण लग गया। कटू संबंधों के चलते दिल्‍ली में इस फ‍िल्‍म की शूटिंग रोकनी पड़ी।

आखिर कौन थे वे पाकिस्‍तान के कलाकार

फ‍िल्‍म 'मॉम' में दो पाकिस्तानी ऐक्टर्स को भी शामिल किया गया, अदनान सिद्दीकी और सजल अली। इनमें से एक श्रीदेवी के पति की भूमिका में थे। सजल ने उनकी बेटी की भूमिका निभाई थी। लेकिन पाकिस्‍तान के साथ तनावपूर्ण संबंधों के चलते दोनों पाकिस्‍तानी कलाकार दिल्‍ली नहीं आ सके। इसके चलते फ‍िल्‍म की शूटिंग को देश के बाहर किया गया।

श्रीदेवी ने 'मॉम' के जरिए किया सबसे दमदार वापसी

बॉलीवुड में लंबे समय के बाद जिन हिरोइन्स ने पुन: वापसी की है, उनमें सबसे दमदार वापसी श्रीदेवी की ही रही है। वापसी के बाद श्रीदेवी की दो फ‍िल्‍में प्रमुख थी। 'इंग्लिश विंग्लिश' में अपनी जिवंत भूमिका के लिए जमकर तारीफें बटोर चुकीं श्रीदेवी की दूसरी फिल्म 'मॉम' थी। इस फिल्म में नवाजुद्दीन सिद्धिकी और अक्षय खन्ना की भी अहम भूमिकाएं निभाई हैं। इस फ‍िल्‍म में शुटिंग के दौरान उन्‍होंने कुछ वक्‍त दिल्‍ली में बिताए।

फ‍िल्‍म के कई शूट दिल्ली के एसआरसीसी कॉलेज में

इस फ‍िल्‍म के लिए श्रीदेवी और अक्षय खन्ना ने दिल्ली के एसआरसीसी कॉलेज में कई महत्वपूर्ण दृश्यों की शूटिंग की। इस दौरान श्रीदेवी के पति और जाने-माने निर्माता-निर्देशक बोनी कपूर भी मौजूद थे। बोनी इस फिल्म के प्रड्यूसर भी हैं। फ‍िल्‍म निर्देशक रवि उदयवार के निर्देशन में बनी इस फिल्म में श्रीदेवी ने सौतेली मां की भूमिका निभाई है।

क्‍या है 'मॉम' की पटकथा

रवि उद्यवर के निर्देशन में बनी यह फिल्म एक सौतेली मां और बेटी की कहानी है। किस तरह एक मां अपनी बेटी से साथ हुए अत्याचार का बदला लेती है। नवाज का यह डायलाग बहुत चर्चित हुआ था कि ' बदलते वक्त में भी नहीं बदलता उसका प्यार, बच्चों के लिए फूल सी वो दुश्मन के लिए तलवार, लक्ष्मी वो सरस्वती दुर्गा काली भी, उसी से घर में होती है होली, ईद, दीवाली भी। ममता के हैं दुनिया में कई नाम, मां कहो, मम्मा कहो, या कहो मॉम।

पद्मश्री सम्मान से नवाजा गया

बता दें कि अपने शानदार अभिनय से सिनेमाप्रेमियों के दिलों पर राज करनेवाली बॉलिवुड अभिनेत्री श्रीदेवी अब हमारे बीच नहीं रहीं। श्रीदेवी का दुबई में हृदय-गति रुक जाने  की वजह से उनका अचानक निधन हो गया। श्रीदेवी 55 वर्ष की थीं। उन्हें हिंदी फिल्मों की पहली फीमेल सुपरस्टार भी कहा जाता है। साल 2013 में उन्हें पद्मश्री सम्मान से नवाजा गया था। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी श्रीदेवी के निधन पर दुख जताया है। वह अपने भतीजे मोहित मारवाह की शादी में शामिल होने के लिए परिवार समेत दुबई में थीं। बताया जा रहा है कि उनका पार्थिव शरीर शाम तक मुंबई लाया जा सकता है।

Posted By: Ramesh Mishra

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस