Move to Jagran APP

Shraddha Murder: घर में थे श्रद्धा के टुकड़े, फिर कई महिलाओं के संपर्क में आया आफताब; एक को कमरे पर भी लाया

Shraddha Murder Case श्रद्धा वालकर हत्याकांड मामले में पुलिस द्वारा दाखिल 6000 से ज्यादा पन्नों की चार्जशीट में कई खुलासे हो रहे हैं। पुलिस ने दावा किया कि आरोपी आफताब आमीन पूनावाला(28) लिव-इन पार्टनर की हत्या के बाद कई महिलाओं के संपर्क में आया था।

By GeetarjunEdited By: GeetarjunPublished: Tue, 07 Feb 2023 07:41 PM (IST)Updated: Tue, 07 Feb 2023 07:41 PM (IST)
श्रद्धा हत्याकांड में पुलिस की चार्जशीट में हुए कई खुलासे, (श्रद्धा-आफताब का फाइल फोटो)।

नई दिल्ली, जागरण डिजिटल डेस्क। श्रद्धा वालकर हत्याकांड मामले में पुलिस द्वारा दाखिल 6000 से ज्यादा पन्नों की चार्जशीट में कई खुलासे हो रहे हैं। पुलिस ने दावा किया कि आरोपी आफताब आमीन पूनावाला(28) लिव-इन पार्टनर की हत्या के बाद कई महिलाओं के संपर्क में आया था। वह श्रद्धा की हत्या के बाद एक महिला मित्र को भी अपने घर लेकर आया था, जहां उस दौरान कमरे में श्रद्धा के शव के टुकड़े भी छिपाकर रखे हुए थे।

साकेत कोर्ट ने मंगलवार को आरोपित आफताब के खिलाफ दिल्ली पुलिस द्वारा दाखिल किए गए आरोप पत्र पर मंगलवार को संज्ञान लिया। कोर्ट ने आरोप-पत्र की एक कॉपी आफताब के वकील को भी उपलब्ध कराई है।

श्रद्धा को पहले से ही था मौत का डर

पुलिस ने बताया कि आफताब के साथ में रहने वाली श्रद्धा पहले से ही मारे जाने के डर में जी रही थी। चार्जशीट में दावा किया कि श्रद्धा वालकर की हत्या के तुरंत बाद आफताब फिर से डेटिंग ऐप बंबल के जरिए कई महिलाओं के संपर्क में आ गया था। वह एक महिला मित्र को अपने घर पर भी लेकर आया था। जब उसने श्रद्धा की हत्या कर दी थी और शव के टुकड़ों को घर में ही छिपाकर रखा हुआ था।

ये भी पढ़ें- Shraddha Murder Case: पुलिस का दावा- श्रद्धा की हड्डियों को ग्राइंडर में पीसता, फिर पाउडर को लगाता था ठिकाने

शव के साथ आफताब ने की थी दरिंदगी

मामले को लेकर पुलिस कई दिनों से जांच कर रही थी। पुलिस द्वारा की गई जांच में पता लगा है कि श्रद्धा की 18 मई को हत्या की गई थी। पुलिस द्वारा दायर की गई चार्जशीट में आरोप लगाए गए है कि आफताब ने अपनी लिव-इन पार्टनर श्रद्धा की हत्या कर उसके शव के साथ दरिंदगी की हदें पार की थी। इसके अलावा आरोप है कि श्रद्धा की हत्या के बाद शव के करीब 35 टुकड़े किए गए थे। आफताब ने श्रद्धा के टुकड़ों को फ्रिज में रखा था। इसके बाद आफताब ने महीनों तक श्रद्धा के टुकड़ों को अलग-अलग जगहों पर ठिकाने लगाया।


This website uses cookies or similar technologies to enhance your browsing experience and provide personalized recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.