नई दिल्ली [रीतिका मिश्रा]। एक अगस्त से अनलॉक-3 की शुरुआत हो चुकी है। कोरोना वायरस संक्रमण के चलते केंद्रीय गृह मंत्रालय की ओर से जारी गाइडलाइन के तहत 31 अगस्त तक स्कूल नहीं खोले जा रहे हैं। दिल्ली शिक्षा निदेशालय ने अपने आदेश में राष्ट्रीय राजधानी के सभी सरकारी, सहायता प्राप्त, मान्यता प्राप्त निजी स्कूल व एमसीडी, एनडीएमसी और दिल्ली कैंटोनमेंट बोर्ड के स्कूलों को 31 अगस्त तक बंद रखने के आदेश दिए हैं। इस पर 1 अगस्त से अमल भी शुरू हो गया है। दिल्ली शिक्षा निदेशालय ने सर्कूलर जारी कर सभी प्रधानाचार्यों को यह भी निर्देश दिए कि कोरोना महामारी के चलते किसी भी छात्र को किसी भी प्रकार की गतिविधि के लिए स्कूल न बुलाया जाए।

ऑनलाइन के जरिये होती रहेगी पढ़ाई

स्कूलों के बंद रहने की स्थिति में सभी छात्र-छात्राओं की पढ़ाई पहले की तरह ऑनलाइन माध्यम से ही जारी रहेगी। निदेशालय ने सभी प्रधानाचार्यों को यह भी सुनिश्चित करने को कहा कि 31 अगस्त तक विद्यालय का कोई भी कर्मचारी शहर से बाहर न जाए और जरूरत पड़ने पर प्रधानाचार्य शिक्षकों व कर्मचारियों को स्कूल व पढ़ाई से संबंधित किसी भी प्रकार की गतिविधि के लिए विद्यालय बुला सकते हैं।

यह भी जानें

  • कोरोना से बचाव के लिए घोषित बंदी के साथ अप्रैल महीने में दिल्ली सरकार ने सरकारी स्कूलों के छात्रों के लिए ऑनलाइन कक्षाएं शुरू की थी।
  • उपमुख्यमंत्री और शिक्षा मंत्री मनीष सिसोदिया के मुताबिक, लॉकडाउन के दौरान दिल्ली सरकारी स्कूलों के केजी से लेकर 12वीं तक के करीब 9 लाख छात्र-छात्राओं ने ऑनलाइन एवं एसएमएस/आईवीआर लर्निंग सिस्टम का लाभ उठाया।
  • उपमुख्यमंत्री ने कहा कि बंदी के बावजूद नए शैक्षणिक सत्र की शुरुआत करना अनोखा प्रयोग है। 
  • लाइव ऑनलाइन कक्षाओं का प्रयोग काफी सार्थक रहा। कक्षा 11 के छात्रों के लिए कैरियर लॉन्चर के सहयोग से 6 अप्रैल को ऑननलाइन कक्षाएं प्रारंभ हुईं थीं।
  • 85 फीसदी छात्रों ने इसमें पंजीयन किया।
  • अंग्रेजी कक्षाओं में सर्वाधिक 60,500 छात्रों की उपस्थिति हुई। ये कक्षाएं 30 मई 2020 को संपन्न हुईं थीं।
  • ये ऑनलाइन कक्षाएं अब भी जारी हैं।

Posted By: JP Yadav

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस