नई दिल्ली, जेएनएन। Rohit Shekhar Murder Case: उत्तर प्रदेश और उत्तराखंड के पूर्व मुख्यमंत्री दिवंगत नारायण दत्त तिवारी के पुत्र और अपने पति रोहित शेखर तिवारी की हत्या के आरोप में दिल्ली की तिहाड़ जेल में बंद पत्नी अपूर्वा शुक्ला तिवारी इन दिनों टैरो कार्ड रीडिंग सीख रही हैं। इस बीच अपूर्वा शुक्ला को लेकर एक और बात सामने आई है कि उन्हें पति रोहित शेखर तिवारी की हत्या को लेकर कोई अफसोस नहीं है। अक्सर उन्हें जेल में सामान्य तौर पर शांत ही देखा जाता है। वह उदास कम ही नजर आती है। बता दें कि इसी साल 15 अप्रैल की रात को रोहित शेखर तिवारी की दिल्ली के घर में हत्या कर दी गई थी। हत्या के आरोप में कई दिनों की जांच पड़ताल के बाद पत्नी अपूर्वा शुक्ला को गिरफ्तार किया गया था, तब से वह तिहाड़ जेल में बंद हैं। 

तिहाड़ जेल सूत्रों के मुताबिक, जेल में महिला प्रकोष्ठ में कैद अपूर्वा शुक्ला (Apoorva Shukla) यहां पर टैरो कार्ड रीडिंग सीख रही है। बताा जा रहा है कि तिहाड़ जेल में एक साल से अधिक समय से टैरो कार्ड की कक्षाएं संचालित की जा रही हैं। इसकी शिक्षिका डॉ. प्रतिभा सिंह के मुताबिक, यूं तो जेल में कार्ड रीडिंग सत्र सप्ताह में दो बार मंगलवार और शुक्रवार को दो घंटे के लिए होते हैं। दोनों ही दिन होने वाली क्लास में अपूर्वा आगे की पंक्ति में बैठती है। जाहिर है उसकी रुचि टैरो कार्ड सीखने में है। 

इतना ही नहीं, अपूर्वा ने शुरुआत में ही प्रतिभा सिंह से संपर्क कर टैरो कार्ड सीखने की इच्छा जताई। उसकी रुचि का अंदाजा इस बात से लगाया जा सकता है कि  अपूर्वा हमेशा ही कक्षा में मौजूद रहती है या फिर हर कक्षा में नियमित रूप से शामिल रहने की कोशिश करती है। 

इस दौरान अपूर्वा ने यह खुलासा किया है कि वह टैरो कार्ड रीडिंग कई सालों से सीखना चाह रही थीं. लेकिन किसी ना किसी कारण से नहीं सीख पा रही थी। 

गौरतलब कै कि कांग्रेस के वरिष्ठ नेता और पूर्व मुख्यमंत्री दिवंगत नारायण दत्त तिवारी के बेटे रोहित शेखर तिवारी (40) हत्याकांड से पर्दा उठाते हुए मामले में पत्नी अपूर्वा शुक्ला को गिरफ्तार किया था। जांच में मिले सबूतों के आधार पर दिल्ली पुलिस की क्राइम ब्रांच ने रोहित की पत्नी अपूर्वा को गिरफ्तार किया था। पूछताछ दौरान पत्नी अपूर्वा ने स्वीकार किया था कि सोमवार रात 11 बजे रोहित से झगड़ा हुआ था। दोनों ने एक-दूसरे का गला दबाया था। इसमें हो सकता है कि जोर से गला दब गया हो और सोने के दौरान रोहित की मौत हो गई हो। 

उत्तराखंड से वोट डालने के बाद 15 अप्रैल की रात 10 बजे रोहित शेखर तिवारी डिफेंस कॉलोनी स्थित अपने घर सी-329 लौटे थे। कार में उनके साथ रोहित की मां उज्ज्वला शर्मा, सौतेले भाई सिद्धार्थ के ममेरे भाई राजीव और राजीव की पत्नी कुमकुम भी थीं। खाना खाने के बाद रात 11 बजे उज्ज्वला, राजीव और कुमकुम तिलक लेन स्थित घर चले गए थे। इसके बाद रोहित पहली मंजिल पर स्थित अपने कमरे में जाकर सो गए। बराबर वाले कमरे में उनकी पत्नी अपूर्वा भी सो गई थीं। इसके बाद रात 1:30 बजे अपूर्वा भूतल से पहली मंजिल पर स्थित रोहित के कमरे में जाते हुए सीसीटीवी कैमरे में दिखाई दी थी। ठीक एक घंटे बाद रात 2.30 बजे वह पहली मंजिल से भूतल पर आते दिख रही थीं।

अपूर्वा ने झगड़े के दौरान दबाया था रोहित का गला
तीन दिन तक हुई पूछताछ के बाद अपूर्वा टूट गई थीं और स्वीकार किया था कि रात 11 बजे रोहित से उनका झगड़ा हुआ था। झगड़े के दौरान दोनों ने एक-दूसरे का गला दबाया था। इसमें हो सकता है कि जोर से गला दब गया हो और सोने के दौरान रोहित की मौत हो गई हो।

 दिल्ली-NCR की ताजा खबरों और महत्वपूर्ण स्टोरीज को बढ़ने के लिए यहां पर करें क्लिक

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस