नई दिल्लीे, जागरण संवाददाता। देशभर में गणतंत्र दिवस 2022 मनाया जा रहा है। दिल्ली में होने वाले मुख्य समारोह के मद्देनजर सुरक्षा के बेहद कड़े बंदोबस्त किए गए हैं। दिल्ली को पुलिस छावनी में तब्दील कर दिया गया है। दिल्ली पुलिस, पैरा मिलिट्री, एनएसजी, एसपीजी व सेना के कमांडो के अलावा सभी केंद्रीय सुरक्षा एजेंसियां पूरी तरह सर्तक है। चप्पे-चप्पे पर पुलिस व पैरा मिलिट्री के जवानों की तैनाती की गई है। हर तरह के संभावित आतंकी खतरे को देखते हुए राजधानी को अभेद किले में तब्दील कर दिया गया है ताकि कोई परिंदा भी पर पर नहीं मार सके। जमीन से आसमान तक सुरक्षा बलों का कड़ा पहरा है।

मंगलवार रात 12 बजे दिल्ली की सभी सीमाएं सील कर दी गई। सघन तलाशी लेने के बाद केवल उन्हीं वाहनों को दिल्ली में प्रवेश की इजाजत मिलेगी जिन्हें बहुत जरूरी काम होगा। सभी सीमाओं पर बड़ी संख्या में सुरक्षा बलों की तैनाती की गई है।

दिल्ली पुलिस के अतिरिक्त जन संपर्क अधिकारी अनिल मित्तल के मुताबिक सेना व पुलिस के जवानों ने दिल्ली को अपने हवाले ले लिया है। पुलिस आयुक्त राकेश अस्थाना ने सभी आला अधिकारियों को निर्देश दिए हैं कि वे अपने-अपने इलाके में रातभर गश्त करते रहें। नई दिल्ली, मध्य व उत्तरी जिले को खासतौर पर अभेद्य किला में तब्दील कर दिया गया है।

(नोट- परेड के मद्देनजर राजपथ पर सुरक्षा के लिहाज से वाहनों की आवाजाही पूरी तरह से बंद है। )

मुख्य आयोजन स्थल राजपथ सहित राष्ट्रपति भवन, इंडिया गेट के अलावा लाल किला तक अलग-अलग सुरक्षा घेरा बनाया गया है। जिप्सियों पर अत्याधुनिक हथियारों से लैस कमांडो विभिन्न इलाकों में लगातार गश्त कर रहे हैं। सभी जिले की पुलिस व पीसीआर को अलर्ट कर दिया गया है। स्वॉट दस्ता को हर तरह की परिस्थितियों से मुकाबला करने के लिए कई महत्वपूर्ण जगहों पर मुस्तैद कर दिया गया है।

सभी बीट में तैनात पुलिस कर्मियों व थाना पुलिस को अपने-अपने इलाके में लगातार गश्त कर हर व्यक्ति पर नजर रखने को कहा गया है। इस बार भी परेड राजपथ से चलकर इंडिया गेट के नेशनल स्टेडियम तक ही जाएगी। समारोह में वीवीआइपी के अलावा आम लोगों में केवल उन्हीं को प्रवेश करने दिया जाएगा जिनके पास निमंत्रण पत्र व पास होगा। बिना पास एक भी आदमी को नई दिल्ली जिले में प्रवेश करने नहीं दिया जाएगा।

(नोट- परेड को लेकर राजपथ सुरक्षा एजेंसियों की निगरानी में है, कोहरे की वजह से इंडिया गेट धुंधला दिख रहा है।)

परेड वाले रूटों के दोनों तरफ सभी ऊंची इमारतों पर पुलिसकर्मी तैनात कर दिए गए हैं। राजपथ से लेकर लालकिला तक अलग-अलग जोनों में बांटकर सुरक्षा के कड़े बंदोबस्त किए गए हैं। सड़कों पर वाहनों की गहन जांच की जा रही है। पूरी दिल्ली में 50 हजार पुलिसकर्मी व पैरा मिलिट्री सड़कों पर मुस्तैद रहकर सुरक्षा व्यवस्था में जुटे हुए हैं। 28 हजार सुरक्षाकर्मी केवल नई दिल्ली में सुरक्षा बंदोबस्त में लगाए गए हैं।

सभी संवेदनशील स्थलों के अलावा प्रमुख बाजारों, रेलवे व मेट्रो स्टेशनों तथा धार्मिक स्थलों पर कड़ी नजर रखी जा रही है। परेड गुजरने वाले मुख्य मार्गों पर कमांडो तैनात किए गए हैं। राजधानी को 30 सेक्टरों में बांटकर सुरक्षा का जिम्मा वरिष्ठ पुलिस अधिकारियों को सौंपा गया है। 71 डीसीपी व एडिशनल डीसीपी स्तर के अधिकारियों को सुरक्षा व्यवस्था में लगाया गया है।

परेड वाले मार्ग में विजय चौक से इंडिया गेट तक 600 सीसीटीवी कैमरे लगाए गए हैं। जिनमें कई चेहरा पहचानने वाले कैमरे शामिल हैं। इस बार केवल 24 झांकियां ही राजपथ से लालकिला तक जाएगी और रात दस बजे वहां से वापस राजपथ पर लौट भी आएगी। लालकिला में इसबार भी भारत पर्व के आयोजन को भी रद्द कर दिया गया है।

26 जनवरी को जहां ऐतिहासिक राजपथ पर मुख्य आयोजन होगा वहीं परेड विजय चौक से शुरू होकर इंडिया गेट नेशनल स्टेडियम तक जाएगी। सुरक्षा कारणों से केंद्रीय सचिवालय, पटेल चौक, लोक नायक मार्ग (रेस कोर्स) और उद्योग भवन मेट्रो स्टेशन सुबह पांच बजे से दोपहर 12 बजे तक बंद रहेंगे। वहीं परेड के दौरान दिल्ली की हवाई सीमा में नॉन शिड्यूल विमानों का प्रवेश भी बंद रहेगा।

Edited By: Vinay Kumar Tiwari