नई दिल्ली, जागरण संवाददाता। अयोध्या में राम जन्मभूमि ट्रस्ट की जमीन खरीद घोटाले का आरोप लगाने वाले आम आदमी पार्टी (आप) के राज्यसभा सदस्य संजय ¨सह के नई दिल्ली स्थित सरकारी आवास पर मंगलवार दोपहर दो युवक केवल उनके नेम प्लेट पर कालिख पोतने आए थे। उन्होंने न तो संजय सिंह पर हमला किया था और न ही उनकी ऐसी कोई मंशा थी। दोनों राम मंदिर न्यास संस्था के कार्यकर्ता हैं। दोनों से पूछताछ व संजय ¨सह के आवास में लगे सीसीटीवी कैमरे के फुटेज की जांच से इसकी पुष्टि हो गई है। कार्यकर्ताओं में एक का नाम अभिषेक दुबे व दूसरे का नाम सुरेंद्र कुमार है। अभिषेक, सहरसा, बिहार व सुरेंद्र, गली मंटोला, पहाड़गंज के रहने वाले हैं।

घटना वाले दिन इन्हें पता लगा था कि संजय ¨सह ने अपने आवास पर कुछ संवाददाताओं को अयोध्या में राम जन्मभूमि ट्रस्ट की जमीन को लेकर बयान देने के लिए बुलाया है। उक्त सूचना पर दोनों ने संजय ¨सह के आवास के बाहर लगे नेमप्लेट पर कालिख पोतने की योजना बनाई। दोनों अलग-अलग बाइक से उनके घर के बाहर पहुच गए। वहां आकर उन्होंने देखा कि संजय सिंह अपने लोन में कुछ मीडिया कर्मियों को बयान दे रहे थे। ये अपने साथ स्याही लेकर आये थे। सस्ती लोकप्रियता पाने के लिए इन्होंने तब नेमप्लेट पर कालिख पोती जब मीडिया कर्मी बाहर निकल गए थे। संजय सिंह के कार्यकर्ताओं ने दोनों को वहीं दबोच लिया और पुलिस को बुलाकर सौंप दिया था। पुलिस ने पूछताछ के बाद शाम सात बजे उन्हें जमानत पर छोड़ दिया था।

पुलिस का कहना है की दोनो में कोई भी राज्यसभा सदस्य के आवास के अंदर नही धुसा था। उनकी ऐसी मंसा नहीं थी।ज्ञात रहे संजय ¨सह ने मंगलवार को घटना के बाद मीडिया को दिए बयान में आरोप लगाया था कि आरोपित उनकी हत्या करने के इरादे से सरकारी आवास के अंदर दाखिल हो गए थे। उन्होंने नार्थ एवेन्यू थाना पुलिस में लिखित शिकायत भी दे दी थी।

शिकायत में संजय सिंह ने कहा था कि दोपहर करीब 12 बजे उनके सरकार आवास 131, नार्थ ऐवन्यू में चार-पांच लोग जबरन दाखिल हो गए थे। उस वक्त वह अपने आवास के लोन में कुछ लोगों से बातचीत कर रहे थे। वे लोग उन्हें जान से मारने की नियत से दाखिल हुए थे। आरोपितो ने उनके घर के बाहर लगे नेमप्लेट पर कालिख पोत दी और सरकारी संपत्ति को नुकसान पहुंचाया। उनके घर में मौजूद लोगों ने दो लोगों को पकड़ कर पुलिस को सौंप दिया था। उन्होंने भाजपा पर हमला करवा करने का आरोप लगाया था।

Edited By: Vinay Kumar Tiwari