नई दिल्ली, जागरण संवाददाता। फिल्मिस्तान स्थित अनाज मंडी अग्निकांड मामले के एक मुख्य आरोपित इमरान की तलाश में दिल्ली पुलिस की क्राइम ब्रांच ने शनिवार को कई जगहों पर छापेमारी की, लेकिन वह हाथ नहीं आया। उधर मामले में गिरफ्तार तीन आरोपित रिहान, उसके साले सोहेल व फुरकान से लगातार पूछताछ जारी है। इसमें क्राइम ब्रांच को यह पता चल गया है कि किन-किन लोगों की फैक्ट्रियां इमारत में चलती थीं। उनकी सूची तैयार कर ली गई है, जल्द ही क्राइम ब्रांच उन्हें भी गिरफ्तार करेगी।

घटना के बाद से सिविक एजेंसियां एक के बाद एक घटनास्थल पर पहुंच कर अपने-अपने तरीके से जांच कर रही है। जिन अधिकारियों व कर्मियों द्वारा फैक्ट्री मालिकों को अवैध तरीके से सहायता करने की बात सामने आएगी। सिविक एजेंसियों के उक्त कर्मचारियों के लिए विभाग भी कार्रवाई करेगा। हादसे में 43 लोगों की मौत हो जाने पर सिविक एजेंसियों के आला अधिकारियों ने भी इसे गंभीरता से लिया है।

क्राइम ब्रांच सूत्रों के मुताबिक रिहान व फुरकान से पूछताछ में जानकारी मिली थी कि इमरान का सीलमपुर व कसाबपुरा में कुछ दोस्तों व रिश्तेदारों के पास आना-जाना है। लिहाजा क्राइम ब्रांच की टीम ने सुबह 11 बजे से शाम चार बजे तक दोनों को साथ लेकर एक दर्जन से अधिक ठिकानों पर छापेमारी की। किंतु वह हाथ नहीं आया। शुक्रवार को सोहेल को घटनास्थल पर लेजाकर क्राइम ब्रांच ने पांच घंटे तक पूछताछ की। मौत की इमारत में अवैध रूप से 18 फैक्ट्रियां चलने की बात थी। जिनमें 12 पर रिहान और तीन-तीन पर इमरान व सोहेल का मालिकाना हक था। कुछ फैक्ट्रियां ये लोग खुद चलाते थे, जबकि कुछ को इन्होंने किराए पर दे रखा था।

उधर उक्त घटना के बाद अनाज मंडी में सैकड़ों की संख्यां में चल रही अवैध फैक्ट्रियों को खाली करने का सिलसिला जारी है। रात भर फैक्ट्री मालिक फैक्ट्री खाली करने में जुटे हुए हैं। रिहायशी इलाके में नियम कानून को ताक पर रखकर वर्षों से अवैध रूप से फैक्ट्रियां चल रही हैं। अग्निकांड के बाद नियम कानून सख्त होने पर अवैध रूप से फैक्ट्री चलाने वाले मालिकों को फैक्ट्री खाली करनी पड़ेंगी।

दिल्ली-एनसीआर की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां पर करें क्लिक

Posted By: Mangal Yadav

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस