नई दिल्ली, जागरण संवाददाता। लोगों के बीच चांदनी चौक का 'हवा महल' आकर्षण के केंद्र में है पर यह विवादों से घिर गया है। स्थानीय दुकानदारों और चांदनी चौक के संरक्षण को लेकर चिंतित लोगों ने इसे अवैध बताते हुए केंद्र व राज्य सरकार के साथ ही उत्तरी नगर निगम से कार्रवाई की मांग की है। उनके मुताबिक इस पुरानी इमारत में गैर कानूनी तरीके से बदलाव किए हैं, जबकि स्पेशल जोन होने के चलते यहां की इमारतों में बदलाव नहीं किए जा सकते हैं। मरम्मत कार्य के लिए भी नगर निगम की मंजूरी की आवश्यकता होती है। इसके साथ ही वे लोग चांदनी चौक में हो रहे अन्य अवैध निर्माणों पर भी चिंता जताते हुए उसे रोकने तथा इमारतों के पुराने स्वरूप को बहाल करने की मांग कर रहे हैं। चांदनी चौक में कई संरक्षित व ऐतिहासिक महत्व की इमारतें और हवेलियां हैं।

इस संबंध में नगर निगम की उपायुक्त शशांका आला ने बताया कि उन्हें इस अवैध निर्माण के बारे में जानकारी नहीं है। वह रिकार्ड देखकर ही बता पाएंगी। स्थानीय पार्षद रविंद्र कुमार उर्फ रवि कप्तान ने कहा कि उन्हें भी संरक्षित व पुरानी इमारतों में बदलाव की जानकारी नहीं है। अगर ऐसा होता है तो उचित कार्रवाई की जाएगी। यह 'हवा महल' चांदनी चौक मुख्य मार्ग पर स्थित है। बताया जाता है कि पहले इसमें होटल चलता था। मुख्य मार्ग की तरफ इमारत के सामने वाले हिस्से में अभी भी कुछ दुकानें चल रही है। इसके सामने के हिस्से में बदलाव का काम कई माह से चल रहा है। इसे राजस्थान की राजधानी जयपुर में स्थित 'हवा महल' का रूप दिया जा रहा है।

चांदनी चौक की पुरानी इमारतें बिल्डरों के निशाने पर

संजय भार्गव चांदनी चौक सर्व व्यापार मंडल के अध्यक्ष व शाहजहांनाबाद पुनर्विकास परियोजना की निगरानी टीम में शामिल संजय भार्गव ने इस हवा महल के साथ ही मुगलकालीन शहर में अन्य ऐतिहासिक इमारतों में हो रहे अवैध निर्माण मामले में आवास और शहरी कार्य मंत्रालय के सचिव दुर्गा शंकर मिश्रा, मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल, लोक निर्माण मंत्री सत्येंद्र जैन, उपराज्यपाल अनिल बैजल, शाहजहांनाबाद पुनर्विकास निगम (एसआरडीसी) के नोडल अधिकारी नितिन पाणिग्रही व नगर निगम को ट्वीट करते हुए कार्रवाई की मांग की है। उन्होंने कहा कि पुरानी दिल्ली की ऐतिहासिक इमारतों के साथ अन्य पुरानी इमारतों में अवैध तरीके से बदलाव किए जा रहे हैं। इससे इमारतें खतरनाक भी हो रही हैं। यह मुद्दा उन्होंने दिल्ली विकास प्राधिकरण (डीडीए) द्वारा चांदनी चौक की पुरानी इमारतों को बचाने को लेकर गठित की गई समिति की बैठक में भी उठाया था।

सरकार इमारतों के सामने के हिस्से को देगी आकर्षक स्वरूप

चांदनी चौक पुनर्विकास परियोजना के अगले चरण में मुख्य मार्ग के दोनों ओर स्थित इमारतों को आकर्षक रूप देने की तैयारी चल रही है। इस संबंध में हाल ही में एसआरडीसी की बैठक में भी यह मुद्दा उठा था, जिसमें अधिकारियों ने बताया कि इसके लिए परामर्शदाता के नियुक्ति की प्रक्रिया चल रही है। इसमें सामने के हिस्से को संरक्षित और ऐतिहासिक स्वरूप दिया जाएगा।

Edited By: Jp Yadav