नई दिल्ली, संवाददाता। सूक्ष्म, लघु एवं मध्यम उद्योग (एमएसएमई) व सड़क एवं परिवहन मंत्री नितिन गडकरी ने बृहस्पतिवार को कहा कि निर्यात क्षेत्र में एमएसएमई का योगदान मौजूदा 45 से बढ़ाकर 60 फीसद और जीडीपी में हिस्सेदारी 29 से 50 फीसद करने का लक्ष्य लेकर आगे बढ़ रही है। उन्होंने केंद्र सरकार की मंशा को व्यक्त करते हुए उद्यमियों से कहा कि वे उत्पादों की गुणवत्ता और लागत पर ध्यान दें। गडकरी ने प्रगति मैदान में 39वें भारतीय अंतरराष्ट्रीय व्यापार मेले का विधिवत उद्घाटन करते हुए कहा कि एमएसएमई क्षेत्र देश की अर्थव्यवस्था में महत्वपूर्ण भूमिका निभा रहा है।

जीडीपी और निर्यात में इसकी भूमिका बढ़ रही है। इस क्षेत्र में रोजगार की संभावनाएं भी तेजी से बढ़ रही हैं। निर्यात बढ़ाने की दिशा में उन्होंने कहा, हमें उत्पादन लागत को कम करना होगा। उत्पादों की प्रतिस्पर्धा के लिए बिजली व दूसरी लागतों को भी कम करना होगा। नए प्रौद्योगिकी व प्रशिक्षण केंद्रों की बात करते हुए उन्होंने कहा कि बिना प्रशिक्षण के बेहतर गुणवत्ता वाले उत्पाद तैयार करना मुश्किल काम है। इसके लिए उन्होंने बेहतर प्रदर्शनी स्थलों की जरूरत को भी रेखांकित किया।

मंत्री ने कहा, सरकार एमएसएमई के लिए तय कारोबार सीमा को भी बढ़ा रही है। हम चाहते हैं कि इस क्षेत्र में रोजगार के अवसर और तेजी से बढ़ें। साथ ही पूवरेत्तर राज्य, पश्चिम बंगाल, बिहार, झारखंड में एमएसएमई क्षेत्र का तेजी से विकास हो। इस अवसर पर वाणिज्य एवं उद्योग राज्यमंत्री सोम प्रकाश ने कहा कि मेला स्थल का आकार कम होने के बावजूद यहां कई देशों की भागीदारी हो रही है। देश-विदेश की 800 से अधिक कंपनियां उत्पादों को प्रदर्शित कर रही हैं। मेले में आस्ट्रेलिया, बहरीन, बांग्लादेश, भूटान, चीन, सहित कई देश हर वर्ष की तरह उपस्थिति दर्ज करा रहे हैं। अफगानिस्तान को इस वर्ष भागीदार देश तथा दक्षिण कोरिया को फोकस देश बनाया गया है। वहीं, बिहार और झारखंड को फोकस राज्य का दर्जा मिला है।

 

वहीं, मेला आयोजक भारतीय व्यापार संवर्धन परिषद (आइटीपीओ) के अध्यक्ष एवं प्रबंध निदेशक एल सी गोयल ने कहा कि 2020 का व्यापार मेला इस बार के मेले से पांच गुणा बड़ा होगा व किसी को जगह कम मिलने की शिकायत नहीं रहेगी। बता दें कि नवीनीकरण कार्य के चलते इस बार भी व्यापार मेला कमोबेश 50 फीसद से भी कम हिस्से में हॉल नं. 7, 8, 9, 10, 11, 12 और 12 ए में आयोजित किया जा रहा है। करीब एक हजार वर्ग मीटर क्षेत्र में हैंगर लगाने की व्यवस्था की गई है। हॉल नं. 7ई में थीम मंडप बनाया गया है। सांस्कृतिक कार्यक्रमों के नाम पर केवल राज्य दिवस समारोह होंगे। शुरुआती पांच दिन व्यापारियों के लिए आरक्षित हैं जबकि शेष नौ दिन आम लोगों के लिए। मेले की टिकटें 66 मेट्रो स्टेशनों और बुक माइ शो के जरिये मिलेंगी। मेले में प्रवेश केवल गेट नं. एक, 10 और 11 से ही हो पाएगा।

Posted By: Pooja Singh

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप