मोदी सरकार - 2.0 के 100 दिन

नई दिल्ली/गाजियाबाद/मोदीनगर, जेएनएन। दिल्ली-मेरठ हाईवे (delhi meerut highway) पर सफर करने वाले राहगीरों/वाहन चालकों को बृहस्पतिवार के बाद अब शुक्रवार के दिन भी थोड़ा संभलकर घर से निकलने की जरूरत है। मूर्ति विसर्जन के चलते हाईवे पर जाम की स्थिति बन रही है। हालांकि, पुलिस-प्रशासनिक स्तर पर यातायात व्यवस्था के बाधित नहीं होने देने का दावा किया जा रहा है।

वहीं, बृहस्पतिवार को मूर्ति विसर्जन के चलते गाज़ियाबाद की तरफ जाने वाले वाहनों को पुलिस ने मोदीनगर स्थित राज चौपले से हापुड़ की तरफ डायवर्ट कराया, जबकि गाजियाबाद से मेरठ की ओर जाने वाले वाहनों को गाजियाबाद में राज नगर एक्सटेंशन से ही हापुड़ की तरफ से निकाला जा रहा है।

गौरतलब हो कि पुलिस प्रशासन ने मूर्ति विसर्जन के दौरान पिछले कई सालों से हाईवे पर बन रही जाम की स्थिति को देखते हुए यह निर्णय लिया है। इसका कुछ असर है, लेकिन लोगों को जाम का सामना करना पड़ रहा है। 

वैसे तो पिछले 4-5 दिनों से मूर्ति विसर्जन करने के लिए श्रद्धालु मुरादनगर स्थित गंगनहर के पास बनाए गए अस्थाई घाट पर पहुंच रहे हैं, लेकिन बुधवार से श्रद्धालुओं की संख्या में तीन दिन तक लगातार इजाफा हो रहा है। यहां गाजियाबाद, नोएडा, दिल्ली, बागपत, मोदीनगर सहित आसपास के क्षेत्र से बड़ी संख्या में श्रद्धालु विसर्जन करने के लिए आ रहे हैं। 

गौरतलब है कि रविवार शाम को अचानक से गंगनहर पर विसर्जन के लिए बड़ी तादाद में श्रद्धालु आ गए थे। उन्होंने अपने वाहनों को हाईवे के किनारे बेतरतीब खड़ा कर दिया था, जिस कारण हाईवे पर भयंकर जाम लग गया था। करीब पांच घंटे लोगों ने जाम झेला। मुरादनगर गंगनहर से लेकर वाहनों की कतारें मोदीनगर क्षेत्र में सीकरी खुर्द गांव के गेट के सामने तक पहुंच गईं। ऐसे में पुलिस-प्रशासन की तैयारी की पहले ही पोल खुल चुकी है।

वाहनों के बेतरतीब खड़े होने से बिगड़ती है स्थिति

गौरतलब है कि मूर्ति विसर्जन को आने वाले लोगों के साथ बड़ी संख्या में लोग अपने अपने वाहनों से भी आते हैं। दबाव बढ़ने पर पुलिसकर्मी वाहनों को पहले ही रोक देते हैं। इसलिए जिसको जहां भी जगह मिलती है वह अपने वाहन वहीं पर सड़क किनारे खड़ा कर देता है। जगह नहीं मिलने पर कुछ लोग तो अपने वाहनों को बीच सड़क पर भी खड़ा करके चले जाते हैं। उधर बार-बार हाईवे पर श्रद्धालुओं में सड़क पार करने की आपाधापी लगी रहती है। इसलिए हाईवे पर वाहनों के पहिए थम जाते हैं। पिछले पांच सालों की स्थिति को देखें तो हाईवे पर मूर्ति विसर्जन के दिनों में दोनों तरफ 10 से 15 किलोमीटर लंबा जाम लगता है। प्रशासन के तमाम दावे अंतिम तीन दिनों में दम तोड़ जाते हैं।

पेड़ों की कटाई भी रोक रही रफ्तार

सड़क चौड़ीकरण व रैपिड रेल का निर्माण कार्य शुरू होने के चलते इन दिनों हाईवे के किनारे पेड़ों की कटाई का काम चल रहा है। इसी कारण हाईवे पर वाहनों की गति आम दिनों में भी प्रभावित हो रही है। मुरादनगर और मोदीनगर के आबादी क्षेत्र में कई कई घंटे जाम भी लग जाता है।

जरूरत पड़ी तो कराया जाएगा डायवर्जन

सीओ मोदीनगर केपी मिश्र ने बताया कि विसर्जन के चलते हाईवे पर मुरादनगर क्षेत्र में जाम लगने का अंदेशा है। यह जाम मोदीनगर तक आ जाता है। ऐसे में जाम से निजात पाने के लिए मेरठ से आने वाले वाहनों को राज चौपले से हापुड़ रोड की तरफ डायवर्ट कराकर वाहनों का दबाव कम कराया जाएगा। वे लोग भोजपुर के पिलखुवा होकर गाजियाबाद जा सकेंगे।

पेड़ों की कटाई ने फिर रोकी रफ्तार

हाई स्पीड ट्रेन के मार्ग के निर्माण के लिए हाईवे के चौड़ीकरण के चलते काटे जा रहे पेड़ों व गंगनहर के निकट हो रही गणोश मूर्ति विसर्जन के कारण हाईवे पर जाम लग गया, जिसके चलते हाईवे पर वाहनों की लंबी-लंबी कतारें लग गई। दस मिनट का सफर घंटो में तय हुआ। इस दौरान ट्रैफिक पुलिस हाईवे पर वाहनों की चेकिंग करती नजर आई। हाईवे पर लगे जाम को खुलवाने का प्रयास नहीं किया।

मंगलवार से हाईवे स्थित थाने के सामने हाई स्पीड ट्रेन के निर्माण के चलते हाईवे का चौड़ीकरण किया जा रहा है। हाईवे के किनारे खड़े पेड़ों की कटाई का कार्य चल रहा है। हाईवे पर वाहनों को रोककर पेड़ों को काटा जा रहा है। वहीं गणोश चतुर्थी के चलते गाजियाबाद, नोएडा, विजयनगर, मुरादनगर व मोदीनगर से गंगनहर स्थित प्रशासन द्वारा बनाई झील में गणोश की मूर्ति विसर्जन करने हजारों श्रद्धालु वाहनों से आ रहे हैं। जिसके चलते हाईवे पर वाहनों का दबाव अधिक होने से हाईवे पर जाम लग गया, जिससे लोगों ने वाहनों को विपरीत दिशा से लाना शुरू कर दी। विपरीत दिशा से आने पर वाहनों की हाईवे पर लंबी- लंबी कतारें लग गई।

गांव दुहाई से थाना तक व रेलवे रोड़ चौराहे से गांव मनोटा तक जाम लग गया। गंतव्य जाने के लिए लोगों ने वैकल्पिक मार्गो को चुना। आयुध निर्माणी फैक्ट्री ओवरब्रिज से कनौजा-डासना मार्ग से हाईवे-24 व पाइप लाइन मार्ग से गंगनहर की पटरी से अपने गंतव्य तक पहुंचने का वाहन चालक प्रयास करते रहे। पाइप लाइन मार्ग क्षतिग्रस्त होने के कारण वहां भी जाम से सामना करना पड़ा। दस मिनट का सफर घंटों में पूरा हुआ। इस दौरान हाईवे पर ट्रैफिक पुलिस वाहनों की चेकिंग करती नजर आई। इस बारे में थाना प्रभारी ओपी सिंह का कहना है कि चौड़ीकरण के चलते हाईवे पर जाम की स्थिति बनी रही। पुलिस यातायात को सुचारु रूप से चलाने का प्रयास करती रही।

दिल्ली-NCR की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां पर करें क्लिक

Posted By: JP Yadav

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप