नई दिल्ली, जागरण संवाददाता। Delhi NSD News: केंद्रीय संस्कृति मंत्रालय ने राष्ट्रीय नाट्य विद्यालय (एनएसडी, NSD) के उस फैसले को पलट दिया है, जिसमें कुलसचिव का कार्यकाल तत्काल प्रभाव से समाप्त करने की बात कही गई थी। मंत्रालय ने कहा कि निर्णय नियमों के तहत नहीं लिया गया था। इसलिए कुलसचिव को तत्काल बहाल किया जाए।

सात अगस्त को एनएसडी कुलसचिव डा. ज्वाला प्रसाद का कार्यकाल समाप्त किया गया था। उन्होंने इसकी शिकायत संस्कृति मंत्रालय में की थी। उन्होंने नियमों को दरकिनार कर कार्यकाल समाप्त किए जाने की बात लिखी। कुलसचिव ने तब कहा था एनएसडी के अभिमंच आडिटोरियम में एक कार्यक्रम के आयोजन की अनुमति देने के कारण उन्हें परेशान किया गया। यह कार्यक्रम सामाजिक संगठन सुयश द्वारा आयोजित किया गया था। इसे राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ से जुड़े संगठन सेवा भारती का संरक्षण प्राप्त था।

छह अगस्त को हुए कार्यक्रम का छात्रों के एक धड़े ने विरोध किया था जिसके बाद कार्रवाई करते हुए कुलसचिव की सेवा समाप्त कर दी गई थी। जबकि, अप्रैल महीने में ही उनका कार्यकाल एक साल के लिए बढ़ाया गया था। संस्कृति मंत्रालय द्वारा एनएसडी को भेजे पत्र में लिखा गया है कि ऐसा लगता है कार्यकाल समाप्त करने का निर्णय लेते समय नियमों का ध्यान नहीं रखा गया।

इतना ही नहीं, कार्यकाल समाप्त करने के पीछे के कारण भी नहीं बताए गए। इसलिए सात अगस्त को जारी आदेश को अमान्य करार दिया जाता है। मंत्रालय, एनएसडी को तत्काल कुलसचिव डा. ज्वाला प्रसाद को बहाल करने का आदेश देता है।

दिल्ली में बढ़ रहा मच्छरजनित बीमारियों का प्रकोप

राजधानी में मच्छरजनित बीमारियों का लगातार प्रकोप बढ़ रहा है। बीते एक सप्ताह में मच्छरजनित बीमारियों के 16 मरीज सामने आए हैं। राहत की बात है कि अभी तक मच्छरजनित बीमारियों से कोई जान जाने का मामला सामने नहीं आया है। निगम की रिपोर्ट के अनुसार बीते एक सप्ताह में डेंगू, मलेरिया और चिकनगुनिया के चार-चार नए मरीजों की पुष्टि हुई है। इससे इस वर्ष डेंगू के कुल मरीजों का आंकड़ा 178 तक जा पहुंचा है।

वहीं, मलेरिया के कुल मरीजों की संख्या भी 39 पर जा पहुंची है। चार नए मरीजों के साथ चिकनगुनिया के कुल मरीजों की संख्या 13 हो गई है। डेंगू के दर्ज हो रहे सर्वाधिक मरीज नगर निगम क्षेत्र से हैं। कुल 178 में से 63 मरीज नगर निगम क्षेत्र से हैं जबकि तीन मरीज नई दिल्ली नगर पालिका परिषद (एनडीएमसी) इलाके से हैं। जबकि 112 मरीजों के पते की पुष्टि नहीं हुई है।

Edited By: Vinay Kumar Tiwari