नई दिल्ली [ जेएनएन ]। इंडियन मुजाहिद्दीन (IM) के खूंखार आतंकी आरिज खान उर्फ जुनैद की गिरफ्तारी के बाद नए-नए खुलासे हो रहे हैं। जानकारी सामने आ रही है कि 27 अक्टूबर, 2013 को पटना ब्लास्ट को IM ने ही अंजाम दिया था। जांच में खुलासा हुआ है कि लोकसभा चुनाव से पूर्व प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की सभा में पटना के गांधी मैदान में आइएम आतंकी तहसीन अख्तर उर्फ मोनू ने ही बम रखा था।

ब्लास्ट के बाद पकड़े गए आइएम के आइटी एक्सपर्ट एजाज शेख ने पूछताछ में इस बात की जानकारी दी थी। उसने यह भी बताया था कि आइएम ने अपनी हिट लिस्ट में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को रखा है, इसलिए पुलिस व सुरक्षा एजेंसियां आरिज से विस्तृत पूछताछ कर आइएम के सभी स्नोत ठीक से खंगालने की कोशिश कर रही है।

जयपुर, सूरत और उप्र एटीएस भी करेगी आरिज से पूछताछ

दिल्ली में 13 सितंबर 2008 को हुए सीरियल बम ब्लास्ट समेत अहमदाबाद के सूरत ब्लास्ट, राजस्थान के जयपुर ब्लास्ट व उत्तर प्रदेश के तीन कचहरी में हुए ब्लास्ट का मुख्य आरोपित इंडियन मुजाहिद्दीन का खूंखार आतंकी आरिज खान उर्फ जुनैद लंबे समय तक पुलिस रिमांड पर रहेगा।

दिल्ली पुलिस व आइबी समेत जयपुर, सूरत व उत्तर प्रदेश एटीएस भी अलग-अलग रिमांड पर लेकर आरिज खान से पूछताछ करेगी। अभी लोधी कॉलोनी स्थित स्पेशल सेल के दफ्तर में कड़ी सुरक्षा में रखकर उससे आइबी, स्पेशल सेल व क्राइम ब्रांच पूछताछ कर रही है। आरिज खान बटला हाउस मुठभेड़ में भी शामिल था।

विशेष आयुक्त स्पेशल सेल एमएम ओबेराय के मुताबिक, आरिज से लगातार पूछताछ चल रही है। उससे अकेले में और जरूरत पड़ने पर आइएम के सह संस्थापक और सिमी से जुड़े आतंकी अब्दुल सुभान कुरैशी उर्फ तौकीर के साथ आमना-सामना करवा कर पूछताछ की जा रही है।

आरिज को 25 दिनों के लिए रिमांड पर लिया गया है उस समय तक उससे आइबी, सेल व क्राइम ब्रांच ही दिल्ली में रखकर पूछताछ करेगी। दरअसल सीरियल ब्लास्ट की जांच में जहां-जहां लिंक नहीं मिल रहा था उन सभी को इससे पूछताछ के जरिये सुलझाया जाएगा।

ओबेराय का कहना है कि दिल्ली पुलिस की पूछताछ खत्म होने के बाद सूरत, जयपुर व उप्र एटीएस भी अलग-अलग रिमांड लेकर आरिज से पूछताछ करेगी क्योंकि ब्लास्ट से संबंधित केस उक्त राज्यों में है। अप्रैल तक आरिज को रिमांड पर रखा जा सकता है। ऐसे में उसका जेल से बाहर निकल पाना बेहद मुश्किल है। जिन चार राज्यों में हुए ब्लास्ट में आरिज की भूमिका थी, उनमें 165 लोगों की मौत और 535 घायल लोग हुए थे। ऐसे में उसे फांसी की सजा मिलनी तय है।

सीरिया जाने की तैयारी कर रहे थे आरिज और अब्दुल सुभान

अब्दुल सुभान कुरैशी उर्फ तौकीर को स्पेशल सेल ने 20 जनवरी को उत्तर प्रदेश के गाजीपुर से गिरफ्तार किया था। आइबी व जयपुर एटीएस के मुखिया बीएल मीणा को जानकारी मिली थी कि ये दोनों आतंकी तथा मोहम्मद खालिद, शादाब व हड्डी समेत कई आतंकी सीरिया जाकर आतंकी संगठन आइएस में शामिल हो चुके हैं। बाद में जानकारी मिली थी कि आरिज व तौकीर सीरिया नहीं गए थे। हालांकि, इनकी वहां जाने की योजना जरूर थी।

यह भी पढ़ेंः लवली की 'घर वापसी' से कांग्रेसियों से ज्यादा BJP नेता खुश, जानें क्या है पूरा मामला

यह भी पढ़ेंः लवली की घर वापसी का शीला ने किया स्वागत, अजय माकन की कार्यशैली पर उठाए सवाल

 

Posted By: JP Yadav