नई दिल्ली, जागरण संवाददाता। कोरोना संकट के बीच एक वृद्धाश्रम में 19 बुजुर्ग गंदगी के बीच रहते हुए मिले। इसके बाद महिला एवं बाल विकास मंत्री राजेंद्र पाल गौतम ने गैर सरकारी संगठन (एनजीओ) संचालक के खिलाफ कार्रवाई के आदेश दिए हैं। साथ ही स्पष्टीकरण भी मांगा है। 

दिल्ली महिला आयोग की अध्यक्ष स्वाति मालीवाल के मुताबिक उन्होंने मंत्री गौतम के साथ नांगलोई स्थित एक वृद्धाश्रम का निरीक्षण किया। इसमें आयोग की टीम ने देखा कि एक छोटे से कमरे में 19 से भी अधिक बुजुर्ग दिव्यांग गंदगी के बीच रह रहे थे। इन सभी का बाहर आना-जाना भी प्रतिबंधित था।

आरोप है कि बुजुर्गों के साथ मारपीट भी की जाती थी। यही नहीं वृद्धाश्रम में गंदगी और गर्मी के बीच बिना मास्क और सैनिटाइजर के एक ही कमरे में महिलाओं और पुरुषों को रखा गया था। मालीवाल का कहना है कि यहां बुजुर्ग महिलाओं और पुरुषों के लिए अलग-अलग बिस्तर की भी व्यवस्था नहीं थी। इसमें ज्यादातर बुजुर्ग मानसिक रोगी हैं। इनके इलाज व मेडिकल जांच की भी कोई व्यवस्था नहीं थी। मेडिकल जांच की भी कोई व्यवस्था नहीं थी।

इधर, निगम के शाहदरा दक्षिण जोन की बैठक जोन कार्यालय में जोन चेयरपर्सन भावना मलिक, पार्षदों और अधिकारियों की मौजूदगी में हुई। बैठक में सभी पार्षदों ने कोरोना संकट में पूरी मेहनत के साथ लोगों की सेवा करने के लिए निगम स्वास्थ्य कर्मियों का खड़े होकर और ताली बजाकर स्वागत किया। साथ ही निर्माण विभाग के अधिकारियों और कर्मचारियों द्वारा सैनिटाइजेशन करने के लिए उन्हें भी धन्यवाद दिया गया।

वहीं, दिल्ली में कोरोना वायरस निपटने का श्रेय देने को लेकर भाजपा और आप सदस्यों में तीखी बहस भी हुई। आप पार्षद गीता रावत ने दिल्ली सरकार को श्रेय दिया तो वहीं भाजपा पार्षद केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह को दिल्ली में कोरोना संकट से निपटने का श्रेय देते दिखे। वहीं पार्षद श्याम सुंदर अग्रवाल, हिमांशी पांडे, गुंजन गुप्ता, गो¨वद अग्रवाल, गीता रावत सहित अन्य पार्षदों ने भी अपने वाडरें से संबंधित समस्याएं जोन चेयरपर्सन भावना मलिक के समक्ष रखीं। मलिक ने सभी समस्याओं के निस्तारण का अधिकारियों को निर्देश दिया।

Posted By: Prateek Kumar

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस