नई दिल्ली, जागरण संवाददाता। बुराड़ी के कमालपुर में 65 साल की बुजुर्ग महिला राजवती की गला रेतकर हत्या करने के मामले में उत्तरी जिला पुलिस ने शिवम उर्फ शुभम नाम के युवक को गिरफ्तार कर 24 घंटे से पहले केस की गुत्थी सुलझा ली है। शिवम पहले महिला के बेटे प्रमोद के ढाबे पर काम करता था। उसे पैसों की जरूरत थी और उम्मीद थी कि लूटपाट करने पर मोटी रकम मिल सकती है। पुलिस अधिकारी के मुताबिक 12 जून को शिवम को किसी से पता लग गया कि राजवती घर में अकेले है। उनका बेटा प्रमोद किसी से मिलने पत्नी के साथ खजूरी गए हैं। यह जानकारी मिलते ही वह एक दोस्त के साथ महिला के घर आ धमका। चूंकि महिला उसे जानती थी इसलिए उन्होंने तुरंत दरवाजा खोल दिया। अंदर जाते ही दोनों ने लूटपाट शुरू कर दी। उन्हें 50 हज़ार नगदी व लाखों के जेवरात मिले। विरोघ जताने व भेद खुलने के डर से दोनों ने पहले गला रेतकर राजवती की हत्या कर दी और पुलिस को जांच से भटकाने के लिए कपड़े में आग लगा दी थी। शिवम से पूछताछ के बाद पुलिस उसके साथी की तलाश में छापेमारी कर रही है। पुलिस लूट का सामान बरामद करने की कोशिश कर रही है।

बता दें कि राजवती बुराड़ी के कमालपुर में बेटा प्रमोद व बहू के साथ रहती थी। उनके पति की कुछ साल पहले मृत्यु हो चुकी है। ये लोग पहले बुराड़ी के उत्तराखंड एंक्लेव में रहते थे। 20 दिन पहले कमालपुर स्थित अपने घर में आए थे। प्रमोद पहले कैब चलवाते थे बाद में उन्होंने ढाबा खोल लिया। ढाबे में 8-10 कर्मचारी काम करते हैं। 12 जून की शाम 5 बजे प्रमोद पत्नी के साथ किसी परिचित के घर खजूरी गए थे। वहां से देर रात करीब 10 बजे घर लौटे तो मेन गेट का दरवाजा खुला हुआ था। अंदर जाकर देखा तो राजवती खून से लहूलुहान जमीन पर पड़ी थी। उनका गला रेता हुआ था।

साड़ी भी जला हुआ था। बांए पैर पर जलने के निशान थे। ऐसा प्रतीत हो रहा था कि घर में ज्वलनशील पदार्थ छिड़क कर आग लगाने की कोशिश की गई थी। इलाके के लोगों ने पुलिस को बताया कि दो संदिग्ध को उन्होंने घूमते हुए देखा था।

Edited By: Mangal Yadav