नई दिल्ली, एएनआइ। Lok Sabha Election 2019: आम चुनाव-2019 के तहत रविवार को अंतिम चरण का मतदान होना है और 23 मई (बृहस्पतिवार) को चुनाव परिणाम भी आ जाएगा। इस बीच देश की राजधानी दिल्ली की सातों लोकसभा सीटों (नई दिल्ली, दक्षिणी दिल्ली, पूर्वी दिल्ली, पश्चिमी दिल्ली, उत्तर पूर्वी दिल्ली, उत्तर पश्चिमी दिल्ली और चांदनी चौक) पर 12 मई को हुई वोटिंग के दौरान मुस्लिम मतों के रुख को लेकर AAP-कांग्रेस में राजनीति गरमा गई है। इस मुद्दे पर शीला दीक्षित और अरविंद केजरीवाल आमने सामने हैं।

यहां पर बता दें कि 'दिल्ली में 12 मई को हुए लोकसभा चुनाव में AAP कितनी सीटें जीतकर लाएगी?' के जवाब में दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल का कहना है कि चुनाव के 48 घंटे पहले तक सातों सीट लग रहा था आम आदमी पार्टी को आएगी, लेकिन ऐन वक्त पर पूरा मुस्लिम वोट कांग्रेस की तरफ चला गया।

आम आदमी पार्टी (aam aadmi party) मुखिया अरविंद केजरीवाल के इस बयान पर दिल्ली की पूर्व सीएम शीला दीक्षित ने प्रतिक्रिया दी है। उन्होंने कहा है- 'मैं नहीं जानती, वह (अरविंद केजरीवाल) क्या कहने की कोशिश कर रहे हैं। हर किसी को अधिकार है कि वह जिस पार्टी को चाहे उसे वोट करे। दिल्ली के लोग इस सरकार के मॉडल को नहीं समझ पा रहे हैं।'

अरविंद केजरीवाल की मानें तो पूरा का पूरा मुस्लिम वोट जो है वो कांग्रेस को शिफ्ट हो गया। ये 12-13 फीसद है। वहीं, दिल्ली विधानसभा चुनाव-2020 को लेकर अरविंद केजरीवाल का कहना है कि दिल्ली में काम बोलता है। लोग हमें हमारे काम के आधार पर वोट देंगे।

यहां पर बता दं कि इससे पहले दिल्ली सरकार के मंत्री और आम आदमी पार्टी (AAP) के नेता राजेंद्र पाल गौतम ने कहा था कि पहले दिल्ली की सभी सात लोकसभा सीटों पर AAP को जीत मिलने की उम्मीद की जा रही थी, लेकिन मुस्लिम वोटर ने कंफ्यूजन में वोट डाला, जिसके चलते कुछ वोटर काग्रेस की तरफ शिफ्ट हुए हैं। इसके अलावा वोटिंग से दो रात पहले गरीब वोटरों को पैसे बांटे गए, जिसके चलते भी वोट ट्रांसफर हुए हैं। राजेंद्र पाल गौतम उत्तरी-पूर्वी दिल्ली की सीमापुरी विधानसभा से विधायक भी हैं।

बता दें कि दिल्ली की सात लोकसभा सीटों में से उत्तरी-पूर्वी दिल्ली लोकसभा सीट पर सबसे ज्यादा वोटिंग हुई थी। यहां पर 63.39 फीसद लोगों ने अपने मताधिकार का इस्तेमाल किया था। इस लोकसभा क्षेत्र में दिल्ली की सबसे ज्यादा मुस्लिम आबादी है। यहां करीब 23 फीसद मुस्लिम हैं, जिसमें सीलमपुर और मुस्तफाबाद जैसे मुस्लिम बहुल इलाके हैं। उत्तरी-पूर्वी दिल्ली लोकसभा सीट से कांग्रेस प्रत्याशी शीला दीक्षित, भाजपा प्रत्याशी मनोज तिवारी और आम आदमी पार्टी के दिलीप पांडेय के बीच मुकाबला है।

वहीं, उत्तर-पूर्वी दिल्ली के अलावा चांदनी चौक और पूर्वी दिल्ली लोकसभा सीट पर भी मुस्लिम वोटरों की तादाद निर्णायक है। चुनाव प्रचार में आप मुखिया अरविंद केजरीवाल लगातार वोट न बंटने की अपील कर रहे थे। AAP को ये आस थी कि भाजपा के विरोध में मुस्लिम समाज का वोट उसे एकतरफा मिलेगा, लेकिन वोटिंग के बाद चर्चा ये रही कि कांग्रेस के हिस्से भी मुस्लिम समाज का वोट गया है।

इस चर्चा की अब अरविंद केजरीवाल के मंत्री ने भी पुष्टि कर दी है। गौतम ने पूछे जाने पर कहा कि मेरी विधानसभा में करीब 67 फीसद वोट डाला गया है। इसके अलावा गर्मी का असर और पूर्वांचलियों के यहां शादिया थीं, जिसके चलते वो अपने गांव चले गए थे। साथ ही रोजे का असर भी वोटिंग में देखने को मिला। हालांकि इसके बावजूद अच्छा वोट पड़ा।

दिल्ली-NCR की ताजा खबरों को पढ़ने के लिए यहां पर करें क्लिक

लोकसभा चुनाव और क्रिकेट से संबंधित अपडेट पाने के लिए डाउनलोड करें जागरण एप

Posted By: JP Yadav