नई दिल्ली जागरण संवाददाता। वसंत कुंज में रहने वाली रूप शर्मा अपने पति कर्नल केके शर्मा के साथ पिछले 43 सालों से वेलेंटाइन-डे मना रही हैं। उन्होंने बताया कि आज से 43 साल पहले अपने वेलेंटाइन के लिए उन्होंने अपना नाम बदल लिया था। आज के शार्ट टाइम प्यार के जमाने में रूप शर्मा चिर-स्थायी-वेलेंटाइन के साथ डटकर खड़ी हैं और लोगों को प्यार का सही मतलब दिखा रही हैं।

मान्यताओं और परंपराओं के देश में आज से चार दशक पहले लव मैरिज की बात सोचना भी अपराध माना जाता था। वहां रूपिंदर कौर (अब रूप शर्मा) ने अपना साथी खुद चुना और पूरी जिंदगी उसके साथ बिताने का निर्णय लिया।

रूपिंदर कौर ने बताया कि वह पंजाबी परिवार से हैं जबकि कर्नल केके शर्मा ब्राह्मण परिवार से आते हैं। ऐसे में उस समय भी उन्हें विवाह में काफी विरोधों का सामना करना पड़ा। इसके बावजूद वह अपने निर्णय पर डटी रहीं। उन्होंने बताया कि कर्नल साहब ने भी सभी विरोधों को दरकिनार कर उन्हें अपनाया। जिसके बाद रूपिंदर कौर अपना नाम रूप शर्मा लिखने लगी।

रूप शर्मा ने बताया कि कर्नल साहब हर वेलेंटाइन में उनके पसंदीदा फूलों के गुलदस्ते के साथ उन्हे ताउम्र वेलेंटाइन बने रहने के लिए प्रपोज करते हैं और वो भी हर बार की तरह उन्हें हर जन्म में अपना वेलेंटाइन बनने की स्वीकृति देती हैं।

Posted By: Mangal Yadav

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस