नई दिल्ली, जेएनएन। 90 के दशक की सबसे मशहूर अभिनेत्रियों में शुमार और मस्त गर्ल कही जाने वाली रवीना टंडन ने कहा है कि हमारे समाज में जो-जो बदलाव हुए उसे हमारे समाज ने अपनाया है। उन्होंने यह बात दिल्ली के इंदिरा गांधी राष्ट्रीय कला केंद में आयोजित प्रादेशिक सांस्कृतिक कार्यक्रम में कही। 

वहीं, इस मौके पर केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी ने कहा कि जब परिवार में परेशानी आती है तो परिवार की महिला ही पूरे परिवार के बारे में सोचती है। उऩ्होंने कहा कि सती प्रथा की शुरुआत हमारे समाज ने की थी, लेकिन बदलाव को देखते हुए हमारे समाज ने इसे खत्म भी किया है। 

यहां पर बता दें कि रवीना टंडन ने अपने बॉलीवुड करियर की शुरुआत दबंग सलमान ख़ान के साथ की थी। उनकी पहली फ़िल्म थी 'पत्थर के फूल'। साल 1991 में आई यह फ़िल्म बॉक्स ऑफिस पर कुछ ज्यादा कमाल नहीं कर पाई। लेकिन, फ़िल्म के गानों की वजह से रवीना को सब पहचानने लगे!

 साल 2017 में 'मातृ' और 'शब' जैसी फ़िल्मों में नज़र आने वाली रवीना नब्बे के दशक में टॉप की अभिनेत्रियों में शामिल रही हैं। ''पत्थर के फूल' के बाद 'मोहरा', 'दिलवाले', 'लाडला', 'इम्तिहान', 'अंदाज़ अपना-अपना' जैसी फ़िल्मों से रवीना ने सबका दिल जीत लिया था। 'खिलाड़ियों का खिलाड़ी', 'जिद्दी', 'सत्ता', 'अक्स' जैसी फ़िल्मों के लिए भी उन्हें याद किया जाता है।

रवीना टंडन की पहचान भले ही एक ग्लैमरस और हॉट अभिनेत्री की रही है, लेकिन वो एक नेशनल अवॉर्ड विनर अभिनेत्री भी हैं। उन्होंने कल्पना लाजिमी की फ़िल्म 'दमन' के लिए सर्वेश्रेष्ठ अभिनेत्री का नेशनल अवॉर्ड जीता है!

Posted By: JP Yadav

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप