नई दिल्ली, आनलाइन डेस्क। भारतीय किसान यूनियन के राष्ट्रीय प्रवक्ता राकेश टिकैत बृहस्पतिवार की शाम को अचानक से फिर यूपी गेट धरना स्थल पर पहुंच गए। उनको यहां देखकर अन्य लोग हैरान रह गए। 15 दिसंबर को ही राकेश टिकैत पूरे लाव लश्वक के साथ फतेह मार्च के साथ यहां से रवाना हुए थे। राकेश टिकैत के साथ आधा दर्जन लोग भी थे। यहां पहुंचने पर जब उनसे पूछा गया कि अचानक से फिर वो यूपी गेट पर कैसे आ गए तो उन्होंने बताया कि वो ये देखने आए हैं कि अभी पूरे टेंट यहां से हट गए हैं या नहीं। क्योंकि उन्होंने पहले ही कह दिया था कि 15 दिसंबर तक सभी टेंट यहां से हटा लिए जाएंगे और सामान आदि चले जाएंगे। उसके बाद प्रशासन ट्रैफिक को चालू कर पाएगा।

जानकारी के अनुसार राकेश टिकैत अपनी टीम के साथ दो गाड़ियों में यूपी गेट पर शाम लगभग 4.30 बजे पहुंचे थे। उसके बाद वो अपने साथियों के साथ गाड़ी से उतरे, उन्होंने कुछ दूर तक पैदल चलकर देखा, उनके यहां आने की सूचना मिलने पर कौशांबी थाने से पुलिस टीम भी पहुंच गई थी। बातचीत के दौरान राकेश टिकैत ने बताया कि वो यहां ये देखने के लिए आए हैं कि किसानों के सभी टेंट यहां से हट चुके हैं या अभी कुछ रह गए हैं। यदि किसी किसान का टेंट किसी वजह से रह गया हो तो उसकी मदद करके उसे हटवाया जाए। इसमें प्रशासन और नगर निगम की मदद भी ली जाए।

मालूम हो कि यूपी गेट पर चल रहे धरने का नेतृत्व राकेश टिकैत ही कर रहे थे। उन्होंने पहले ही ऐलान किया था कि 15 दिसंबर को यूपी गेट से सभी किसान चले जाएंगे, इससे पहले ही किसान अपने टेंट आदि खोलने लग गए थे। कुछ किसान तो 15 दिसंबर से पहले ही अपना सामान लेकर चले गए थे, कुछ के टेंट और सामान रह गए थे जिन्होंने 15 दिसंबर की देर रात तक उसे हटा लिया था। किसानों के टेंट और सामान हट जाने के बाद अब एनएचएआइ और ट्रैफिक पुलिस की टीम यहां यातायात को सामान्य करने में लगी हुई है। मगर राकेश टिकैत को फिर से यूपी गेट पर देखकर एकबारगी सभी हैरान रह गए।

पढ़िये- योगी आदित्यनाथ के मंत्री के किस बयान पर कुमार विश्वास बोले 'हुजूर ठीक ही कहते होंगे'

यह भी पढ़ेंः Nirbhaya Case: निर्भया का एक गुनहगार आज भी है जिंदा, जानिए कैसे फांसी पर लटकने से बच गया

Edited By: Vinay Kumar Tiwari