नई दिल्ली, जागरण संवाददाता। Indian Railways News: कोरोना संकट के दौर में कई लोगों का रोजगार चला गया है। बेरोजगार युवा फिर से रोजगार हासिल कर सकें, इसके लिए रेलवे ने उन्हें प्रशिक्षण देने का फैसला किया है। प्रधानमंत्री कौशल विकास योजना (पीएमकेवीवाई) के तहत 35 सौ बेरोजगारों को तीन माह का नि:शुल्क प्रशिक्षण दिया जाएगा। इससे उन्हें रोजगार हासिल करने में मदद मिलेगी। उत्तर रेलवे में ढाई हजार लोगों को प्रशिक्षण दिया जाएगा। इसी तरह से अन्य स्थानों पर भी इस तरह के प्रशिक्षण कार्यक्रम आयोजित किए जाएंगे।

उत्तर रेलवे के गाजियाबाद स्थित कैरिज एवं वैगन केयर सेंटर में पहले व दूसरे बैच के लिए आवेदन मांगे गए हैं। आवेदनकर्ता का दसवीं पास होना जरूरी है। 18 से 35 वर्ष तक के आयु के युवक-युवतियां फिटर और वैल्डर ट्रेड में प्रशिक्षण के लिए आवेदन कर सकते हैं। तीन सप्ताह के नि:शुल्क प्रशिक्षण हासिल करने के लिए 23 सितंबर तक आवेदन किया जा सकता है। चयनित उम्मीदवारों को प्रशिक्षण के लिए बुलाया जाएगा।

पहला बैच छह अक्टूबर से और दूसरा बैच आठ नवंबर से शुरू होगा। रेलवे अधिकारियों का कहना है कि प्रशिक्षण कार्यक्रम में प्रायोगिक पक्ष पर ज्यादा ध्यान दिया जाएगा, जिससे कि उन्हें कम समय में बेहतर जानकारी मिल सके। सफलता पूर्वक प्रशिक्षण हासिल करने वालों को प्रमाण पत्र दिया जाएगा। इस प्रशिक्षण से युवाओं को रोजगार हासिल करने में मदद मिलेगी।

उधर एक अच्छी खबर ये भी है कि अब कला व वाणिज्य के छात्र भी आइआइटी दिल्ली से पढ़ाई कर सकेंगे। आइआइटी दिल्ली शैक्षणिक सत्र 2022-23 से बैचलर आफ डिजाइन पाठ्यक्रम शुरू करेगा। जिसमें ना केवल विज्ञान बल्कि कला व वाणिज्य के छात्रों को भी दाखिला दिया जाएगा। आइआइटी दिल्ली की बोर्ड आफ गवर्नर की बैठक में यह फैसला लिया गया है।

आइआइटी दिल्ली ने बताया कि डिपार्टमेंट आफ डिजाइन के तहत छात्र बैचलर आफ डिजाइन की पढ़ाई करेंगे। इसके लिए फैकल्टी की भी नियुक्ति की जाएगी। यह चार वर्षीय पाठ्यक्रम होगा। फिलहाल कुल 20 सीटों पर दाखिले दिए जाएंगे। आइआइटी निदेशक प्रो. वी रामगोपाल राव ने बताया कि डिजाइन में नया स्नातक पाठ्यक्रम प्रारंभ कर बहुत खुशी हो रही है। क्यों कि यह पहली बार है जब भौतिक, रसायन विज्ञान और गणित के अलावा अन्य वर्ग के छात्रों को प्रवेश दिया जाएगा। छात्रों का दाखिला अंडरग्रेजुएट कामन एंट्रेंस एग्जामिनेशन फार डिजाइन (यूसीड) के जरिए होगा। गौरतलब है कि आइआइटी बाम्बे, आइआइटी गुवाहाटी पहले से ही बैचलर आफ डिजाइन पाठ्यक्रम पढ़ा रहे हैं।

Edited By: Vinay Kumar Tiwari