Move to Jagran APP

हिमाचल का पानी नहीं पहुंचा दिल्ली, हरियाणा पर AAP सरकार ने लगाए आरोप; जल संकट पर आतिशी की एलजी से मुलाकात आज

हिमाचल प्रदेश का पानी अब तक दिल्ली नहीं पहुंचा है। इस वजह से वजीराबाद में यमुना का जलस्तर सामान्य से पांच फीट कम बना हुआ है। आठ जून को सभी स्त्रोतों को मिलाकर जल बोर्ड को आवंटन से अधिक पानी उपलब्ध हुआ। इस वजह से जल बोर्ड ने रविवार सुबह अपने नौ जल शोधन संयंत्रों से क्षमता से 34 एमजीडी अधिक पानी की आपूर्ति की।

By Ranbijay Kumar Singh Edited By: Geetarjun Published: Mon, 10 Jun 2024 06:00 AM (IST)Updated: Mon, 10 Jun 2024 06:00 AM (IST)
हिमाचल का पानी नहीं पहुंचा दिल्ली, हरियाणा पर दिल्ली सरकार ने लगाए आरोप।

राज्य ब्यूरो, नई दिल्ली। हिमाचल प्रदेश का पानी अब तक दिल्ली नहीं पहुंचा है। इस वजह से वजीराबाद में यमुना का जलस्तर सामान्य से पांच फीट कम बना हुआ है। फिर भी जल बोर्ड के समर बुलेटिन के अनुसार, आठ जून को सभी स्त्रोतों को मिलाकर जल बोर्ड को आवंटन से अधिक पानी उपलब्ध हुआ।

इस वजह से जल बोर्ड ने रविवार सुबह अपने नौ जल शोधन संयंत्रों से क्षमता से 34 एमजीडी अधिक पानी की आपूर्ति की। लेकिन वजीराबाद में यमुना का जल स्तर कम होने से वजीराबाद जल शोधन संयंत्र से पानी की आपूर्ति थोड़ी कम हुई है।

दिल्ली के हिस्से का पानी न छोड़ने का आरोप

दूसरी ओर दिल्ली की जल मंत्री आतिशी ने रविवार को हरियाणा के मुख्यमंत्री नायब सैनी को पत्र लिखकर मुनक नहर में दिल्ली के हिस्से से करीब 100 एमजीडी पानी कम छोड़े जाने का आरोप लगाया है। उन्होंने हरियाणा सरकार से मुनक नहर में दिल्ली के हिस्से का पानी तत्काल छोड़े जाने की मांग की है और कहा है यदि दिल्ली के हिस्से का पानी जल्दी नहीं छोड़ा गया तो एक दो दिनों में राष्ट्रीय राजधानी में पेयजल की भीषण किल्लत शुरू हो जाएगी।

उपराज्यपाल से होगी मीटिंग

आतिशी ने इस मामले में उपराज्यपाल वीके सक्सेना से भी हस्तक्षेप करने की मांग की है। साथ ही उपराज्यपाल के साथ आपातकालीन बैठक करने का आग्रह किया है। इसके मद्देनजर उपराज्यपाल ने उन्हें रविवार को सुबह 11 बजे बैठक के लिए समय दिया है।

उपराज्यपाल की जलसंकट पर नजर

उपराज्यपाल कार्यालय के अनुसार जलसंकट पर एलजी की पूरी नजर है। उन्होंने सुप्रीम कोर्ट के निर्देशानुसार अधिकारियों को हिमाचल और हरियाणा द्वारा छोड़े गए पानी की वास्तविक स्थिति, दिल्ली में पानी की बर्बादी और रिसाव को रोकने के उपाय और वजीराबाद जलाशय से गाद निकालने की स्थिति की रिपोर्ट सौंपने का निर्देश दिया है।

हरियाणा को आतिशी ने याद दिलाया समझौता

आतिशी ने हरियाणा के मुख्यमंत्री को लिखे पत्र में कहा है कि वर्ष 2018 में अपर यमुना रिवर बोर्ड में दिल्ली-हरियाणा के बीच हुए समझौते के अनुसार दिल्ली को मुनक नहर से प्रतिदिन 1050 क्यूसेक (565 एमजीडी) पानी मिलना चाहिए। दिल्ली पहुंचने में कुछ पानी के नुकसान होने के बावजूद गर्मी के मौसम में भी मुनक नहर से 980 से 1030 क्यूसेक (527.40 से 554.31 एमजीडी) पानी पहुंचता है लेकिन पिछले एक सप्ताह में इसमें भारी कमी आई है।

मुनक नहर से दिल्ली को मात्रा 840 क्यूसेक (452 एमजीडी) पानी मिला। मुनक नगर से पानी कम आने से जल बोर्ड के सात जल शोधन संयंत्रों से पानी आपूर्ति बुरी तरह प्रभावित होगी। इसलिए हरियाणा दिल्ली को उसके हिस्से का पूरा 1050 क्यूसेक पानी छोड़ा जाना सुनिश्चित करें। उन्होंने कहा है कि इस मुद्दे पर पिछले कई दिनों में हरियाणा सरकार को लगातार पत्र लिखने के बावजूद न तो कोई उचित कदम उठाया गया और न ही जवाब मिला।

रविवार को 990.91 एमजीडी पानी की हुई आपूर्ति

जल बोर्ड के समर बुलेटिन के अनुसार मुनक नहर से आवंटन की तुलना में 100 एमजीडी कम पानी मिला। लेकिन दिल्ली सब ब्रांच (डीएसबी) से आवंटन की तुलना में 13 एमजीडी अधिक पानी मिला। जल बोर्ड ने समर बुलेटिन में यमुना से पानी आवंटन शून्य दिखाया है। जबकि यमुना से वजीराबाद जल शोधन के लिए 139 एमजीडी पानी उठाया गया। इस तरह तीनों स्रोतों को मिलाकर जल बोर्ड को यमुना का 599 एमजीडी पानी उपलब्ध हुआ। इसके अलावा 254 एमजीडी गंगा का पानी उपलब्ध हुआ।

जल बोर्ड के शोधन संयंत्रों की शोधन क्षमता 821 एमजीडी है। इसकी तुलना में संयंत्रों से 855.01 एमजीडी पानी की आपूर्ति हुई। इसके अलावा ट्यूबवेल से 135 एमजीडी पानी की आपूर्ति हुई। इस तरह रविवार को 990.91 एमजीडी पानी की आपूर्ति हुई।

वजीराबाद में यमुना का सामान्य जल स्तर- 674.50 फीट

वजीराबाद में यमुना का मौजूदा जल स्तर- 669.50 फीट

जल बोर्ड समर बुलेटिन के अनुसार को आठ मई को विभिन्न स्रोतों से आवंटित पानी (एमजीडी में) और उपलब्ध पानी (एमजीडी में)

स्रोतv                   आवंटित पानी            प्राप्त पानी

दिल्ली सब ब्रांच            178                       191

मुनक नहर                  369                       269

यमुना                            0                        139

अपर गंगा नहर             254                       257

कुल                            801                       856

जल बोर्ड के जल शोधन संयंत्रों की शोधन क्षमता व पानी आपूर्ति (एमजीडी में)

संयंत्र                  क्षमता              पानी आपूर्ति

हैदरपुर                216                  241.67

सोनिया विहार       140                  142.60

वजीराबाद            131                  119.52

भागीरथी              110                   112.76

चंद्रावल                 94                     99.87

द्वारका                  50                     52.38

नांगलोई                40                     44.30

ओखला                 20                     21.87

बवाना                   20                     20.04

कुल                     821                   855.01

रेनीवेल एवं ट्यूबवेल से पानी आपूर्ति- 135 एमजीडी

कुल पानी आपूर्ति- 990.91 एमजीडी


This website uses cookies or similar technologies to enhance your browsing experience and provide personalized recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.