नई दिल्ली, जागरण संवाददाता। जवाहर लाल नेहरू विश्वविद्यालय में शैक्षणिक सत्र 2021-22 के लिए दाखिला प्रक्रिया का आगाज एक अगस्त से होगा। जेएनयू प्रशासन की मानें तो प्रवेश परीक्षा सितंबर के आखिरी हफ्ते में होगी जबकि दाखिले नवंबर में होंगे। जेएनयू ने अभी कोई निश्चित तिथि जारी नहीं की है। राष्ट्रीय परीक्षा एजेंसी (एनटीए) इस बाबत अंतिम निर्णय लेगी। इस साल से एमफिल में दाखिले बंद हो जाएंगे। ऐसा नई शिक्षा नीति के तहत किया जाएगा।

कुल सीटें--3016

स्नातक--982

स्नातकोत्तर--1583

पीएचडी--902

प्रवेश परीक्षा के लिए पंजीकरण--एक अगस्त से

-पंजीकरण की आखिरी तिथि--31 अगस्त संभावित

-प्रवेश परीक्षा--सितंबर के अंतिम सप्ताह।

-दाखिले--नवंबर के पहले हफ्ते।

छह नए पीएचडी पाठ्यक्रम

-स्पेशल सेंटर फार सिस्टम्स मेडिसिन में सिस्टम्स मेडिसिन।

-नेशनल सिक्योरिटी स्टडीज--स्पेशल सेंटर फार नेशनल सिक्योरिटी

-कंप्यूटर साइंस में पीएचडी--स्कूल आफ इंजीनियरिंग

-इलेक्ट्रॉनिक्स एंड कम्यूनिकेशन इंजीनियरिंग--स्कूल आफ इंजीनियरिंग

-मेकेनिकल इंजीनियरिंग--स्कूल आफ इंजीनियरिंग

-माइक्रोसिस्टम्स--स्कूल आफ कंप्यूटर एंड सिस्टम साइंस

दाखिले से जुड़ी अहम बातें

-प्रवेश परीक्षा गत वर्ष की भांति कंप्यूटर बेस्ड होगी।

-छात्रों का मौखिक परीक्षा पूर्व की तरह आनलाइन ही होगी।

-जेएनयू में इस साल स्कूल आफ ट्रेडिशनल म्यूजिक एंड डांस नहीं हाेगा शुरू।

एमफिल में दाखिले बंद

नई शिक्षा नीति को अमल करने की दिशा में जेएनयू ने एक कदम और बढ़ाया है। कुलपति प्रो एम जगदेश कुमार ने कहा कि जेएनयू में इस साल से एमफिल में दाखिले बंद हो जाएंगे। ऐसा नई शिक्षा नीति के तहत किया जाएगा। जामिया मिल्लिया इस्लामिया ने भी एमफिल दाखिला बंद कर दिया है। वहीं दिल्ली विश्वविद्यालय अगामी शैक्षणिक सत्र से एमफिल बंद करेगा।

आनलाइन पढ़ाई

-जेएनयू ई प्रास्पेक्टस के मुताबिक आनलाइन पाठ्यक्रम शुरू किए जाएंगे।

-स्नातक, स्नातकोत्तर के कई पाठ्यक्रमों की आनलाइन होगी।

-आनलाइन पढ़ाई के लिए बुनियादी ढांचे का विकास किया जा रहा है।

Edited By: Vinay Kumar Tiwari