नई दिल्ली, जागरण संवाददाता। केंद्रीय लोक निर्माण विभाग ने महरौली स्थित सरकारी नर्सरी में फ्लॉवर शो व गार्डन प्रतियोगिता का आयोजन किया। इस कार्यक्रम में केंद्रीय लोक निर्माण विभाग के महानिदेशक पीके वत्स मुख्य अतिथि थे। यह पूरा आयोजन 22 से शुरू होकर 23 फरवरी तक चला, जिसमें सैकड़ों की संख्या में लोग शामिल हुए। कार्यक्रम में सरकारी विभाग, स्कूली छात्र व युवाओं का हौसला बढ़ाने के लिए गार्डन प्रतियोगिता भी रखी गई, जहां शामिल किए गए करीब 70 तरीकों के फूलों के पौधों को क्लास की श्रेणी में रखकर पुरस्कृत किया गया।

प्रदर्शनी को देखने के लिए रही वैज्ञानिकों की भीड़

क्लास-1 के स्टॉक ब्रांचिक, वर्बना, वोयला, गजानिया, गेरेनियम, दहिला डबल, अस्टर पौधे थे। जबकि क्लास 4 के सेक्शन 1 में गार्डन में उगाई गयी सब्जियों जैसे फूलगोभी, बैंगन को रखा गया था। वहीं, सेक्शन 5 में बोटल गार्डन, क्लास 13 के सेक्शन 3 की श्रेणी मे लैंडस्केप, दहिलास के ग्रुप की प्रदर्शनी लगाई गई थी। विशेष प्रदर्शनी की क्लास 1 की श्रेणी में नेशट्रीरम, मारीगोल्ड फ्रैंच, मारीगोल्ड अफरीकन, लिनिरा, गेरेबा डबल, डायथर्स, कैनिरिआ, क्लारकिया, कैंडी तूफ्त, ब्रांचीकॉम, एंत्रीरियम और स्वीट एलूसम को लगाया गया था।

प्रदर्शनी को देखने के लिए बच्चों, महिलाओं युवक-युवतियों, बुजुर्गो, वैज्ञानिकों और लोक निर्माण अधिकारियों की भारी भीड़ रही।

बच्‍चों की मस्‍ती के लिए बना था एक कॉर्नर

पार्क में बच्चों के खेलने के लिए मिक्की माउस, जंपिग कॉन को लगाया गया था। इस दौरान लोक निर्माण विभाग द्वारा फूलों के पौधों को बेचने के लिए स्टॉल भी लगाए गए थे, जहां पर्यटकों ने अपने पसंदीदा पौधे खरीदे। वहीं, विभाग ने लोगों को पौधे से होने वाले घरेलू फायदों की जानकारी पंपलेट्स बांटकर दी गई। इसके अलावा पर्यटकों का समझाने के लिए हर पेड़, पौधे के नाम के आगे उनके फायदे भी लिखे गए थे। पार्क में दर्शकों को लुभाने के लिए फूलों की पंखडियों से तोता, जेबरा, डॉलफिन, मोर बनाए गए थे, जहां लोगों ने सेल्फी ली। फूलों की कैटेगरी के विजेता घोषित करने के लिए निर्णायक एसएस सिंधु और सुच्रीता मशकारा मौजूद रहीं।

फ्लॉवर शो प्रतियोगिता के विजेता रहे संयुक्‍त प्रतिभागी

फ्लॉवर शो प्रतियोगिता के विजेता लोक निर्माण विभाग, एनडीएमसी, हॉर्टिकल्चर के संयुक्त कर्मचारी रहे। वहीं, कार्यक्रम के मुख्य अतिथि केंद्रीय लोक निर्माण विभाग के महानिदेशक पीके वत्स ने कहा कि इस कार्यक्रम का सालाना आयोजन लोगों में पर्यावरण की रूचि पैदा करने के लिए किया जाता है। इस बार सभी लोगों के प्रयास से 70 से ज्यादा फूलों की कैटेगरी को यहां शामिल किया गया है। सभी लोगों ने इस कार्यक्रम में काफी उत्साहपूर्वक भाग लिया है।

दिल्‍ली-एनसीआर की खबरों को पढ़ने के लिए यहां करें क्‍लिक

Posted By: Prateek Kumar

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस