Move to Jagran APP

मंडोला 400 केवी सब स्टेशन में खराबी, दिल्ली में कई इलाकों के साथ राजनिवास और मुख्यमंत्री आवास में हुई बिजली गुल

उत्तर प्रदेश के लोनी मंडोला स्थित पावर ग्रिड कॉरपोरेशन ऑफ इंडिया लिमिटेड (पीजीसीआईएल) के 400 केवी सब-स्टेशन में खराबी आने से मंगलवार दोपहर दिल्ली के कई क्षेत्रों में बिजली गुल हो गई। कुछ देर के लिए राजनिवास और मुख्यमंत्री आवास की भी बिजली बाधित हुई। लगभग एक घंटे बाद आहिस्ता-आहिस्ता बिजली आपूर्ति बहाल हो सकी। इस सब स्टेशन से दिल्ली को 1200 मेगावाट बिजली मिलती है।

By Santosh Kumar Singh Edited By: Geetarjun Published: Wed, 12 Jun 2024 12:33 AM (IST)Updated: Wed, 12 Jun 2024 12:33 AM (IST)
मंडोला 400 केवी सब स्टेशन में खराबी, कई इलाकों के साथ राजनिवास और मुख्यमंत्री आवास में हुई बिजली गुल

राज्य ब्यूरो, नई दिल्ली। उत्तर प्रदेश के लोनी मंडोला स्थित पावर ग्रिड कॉरपोरेशन ऑफ इंडिया लिमिटेड (पीजीसीआईएल) के 400 केवी सब-स्टेशन में खराबी आने से मंगलवार दोपहर दिल्ली के कई क्षेत्रों में बिजली गुल हो गई। कुछ देर के लिए राजनिवास और मुख्यमंत्री आवास की भी बिजली बाधित हुई। लगभग एक घंटे बाद आहिस्ता-आहिस्ता बिजली आपूर्ति बहाल हो सकी।

इस सब स्टेशन से दिल्ली को 1200 मेगावाट बिजली मिलती है। दिल्ली की बिजली मंत्री आतिशी ने इस पर चिंता जताई है। उन्होंने केंद्रीय बिजली मंत्री मनोहर लाल और पीजीसीआईएल के अध्यक्ष से मिलने का समय मांगा है। मंत्री का कहना है कि मंडोला सब स्टेशन में आग लगने से दिल्ली में बिजली आपूर्ति बाधित हुई है।

वहीं, ग्रिड सब स्टेशन के एजीएम विनीत कुमार का कहना है कि यहां पर चार ट्रांसफार्मर हैं और सभी गर्म हो गए थे। इस कारण दोपहर 2.10 शटडाउन लिया गया था। दोपहर 2.50 पर बिजली आपूर्ति सुचारू कर दी गई थी। शटडाउन के दौरान तुगलकाबाद और द्वारका सब स्टेशन से बिजली आपूर्ति की गई। मुख्य अग्निशमन अधिकारी गाजियाबाद राहुल पाल का भी कहना है कि मंडोला ग्रिड सब स्टेशन में आग लगने की कोई सूचना नहीं है।

फिल्म बीच में रूक गई

मंडोला ग्रिड स्टेशन से बिजली आपूर्ति ठप होने से यमुनापार के अधिकतर क्षेत्र प्रभावित हुए। प्रचंड गर्मी में बिजली गुल होने से लोग परेशान रहे। कृष्णा नगर निवासी बीएस वोहरा ने बताया कि मंगलवार को दोपहर करीब सवा दो बजे से साढ़े तीन बजे तक बिजली गुल रही। शाहदरा के विकास माल स्थित मिराज सिनेमा में बिजली गुल होने से फिल्म रोकनी पड़ी। बिजली की वैकल्पिक व्यवस्था भी प्रयोग में नहीं आ सका, इस कारण दर्शकों को पैसे वापस दिए गए।

बिजली गुल होने से पुरानी दिल्ली में कामकाज प्रभावित

करीब 45 मिनट से दो घंटे की बिजली कटौती से पुरानी दिल्ली स्थित थोक बाजारों की कारोबारी गतिविधियां प्रभावित हुई। चांदनी चौक, दरियागंज,खारी बावली, कश्मीरी गेट, चावड़ी बाजार समेत अन्य बाजारों की बिजली गुल रही, जिसके कारण, दुकानदारों के साथ खरीदारों और स्थानीय निवासियों को परेशानी हुई। व्यापारियों को जीएसटी रसीद तैयार करने में परेशानी हुई। संकरी गलियों में स्थित इन बाजारों में संपर्क का साधन इंटरनेट कालिंग है, बिजली गुल होने से इंटरनेट सुविधा बाधित हुई जिससे लोगों को संपर्क करने में भी दिक्कत हुई। कनाट प्लेस के एक हिस्से में भी डेढ़ घंटे की कटौती रही। दरियागंज में एक ट्रैवेल एजेंसी के संचालक चंदन जैनी ने बताया कि बिजली न होने से कुछ देर के लिए टिकट की बुकिंग रूक गई थी।

मंत्री ने कहा पावर ग्रिड की विफलता चिंताजनक

आतिशी ने एक्स पर पोस्ट कर कहा, दोपहर 2.11 बजे से दिल्ली के कई हिस्सों में ख़ासतौर पर पूर्वी दिल्ली और आईटीओ, दक्षिणी दिल्ली में सरिता विहार, सुखदेव विहार आदि में बिजली कट लगा है। दिल्ली सरकार ने हमेशा 24 घंटे बिजली देने का प्रयास किया है। कुछ सप्ताह पहले 8300 मेगावाट की अधिकतम मांग भी बिना किसी कटौती के पूरा किया गया है। परंतु, नेशनल पावर ग्रिड की विफलता की वजह से दिल्ली के बड़े हिस्से में बिजली गुल हो गई। नेशनल पावर ग्रिड की यह विफलता चिंताजनक है।

पूरे देश के बिजली ट्रांसमिशन की जिम्मेदारी केंद्र सरकार के पास है। दिल्ली में बहुत कम बिजली का उत्पादन होता है। दिल्ली बिजली की अपनी जरूरतों के लिए दूसरे राज्यों या केंद्र सरकार के संयंत्रों से बिजली खरीदती है जो पीजीसीआईएल के माध्यम से यहां पहुंचती है। बिजली मंत्री और पीजीसीआईएल के अध्यक्ष से मिलकर इस तरह की परेशानी दोबारा न हो यह सुनिश्चित करने की मांग की जाएगी।

इन क्षेत्रों में बिजली आपूर्ति बाधित हुई

यमुना पारः भजनपुरा, शास्त्री पार्क, मुस्तफाबाद, करावल नगर, खजूरी, सीलमपुर, वेलकम, गोकलपुरी, लक्ष्मी नगर, शाहदरा, सीलमपुर, त्रिलोकपुरी, पटपड़गंज, मयूर विहार।

एनडीएमसी क्षेत्रः कनॉट प्लेस, लुटियंस जोन के अन्य क्षेत्र।

मध्य दिल्लीः आईटीओ, पुरानी दिल्ली, कश्मीरी गेट।

उत्तर दिल्लीः रोहिणी, नरेला, गोपालपुर, सब्जी मंडी, सिविल लाइंस, माडल टाउन, दिल्ली विश्वविद्यालय, मुखर्जी नगर, जहांगीपुरी, भलस्वा।

दक्षिणी दिल्लीः आश्रम, लाजपत नगर, जामिया।

टाटा पावर दिल्ली डिस्ट्रिब्यूशन लिमिटेड और बीएसईएस के अधिकारियों का कहना है कि दोपहर 2.11 बजे बिजली गुल हुई थी और 2.58 बजे से आपूर्ति बहाल होने लगी थी। ट्रांसको लिमिटेड के अधिकारियों के अनुसार लगभग दो घंटे में सभी प्रभावित क्षेत्रों में बिजली बहाल हो गई थी। मेट्रो के परिचालन सहित कोई जरूरी सेवा बाधित नहीं हुई।

30 जुलाई, 2012 को गुल हो गई थी दिल्ली में बिजली

इससे पहले 30 जुलाई, 2012 को उत्तरी ग्रिड के फेल होने से दिल्ली में कई घंटे तक बिजली गुल रही थी।


This website uses cookies or similar technologies to enhance your browsing experience and provide personalized recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.