नई दिल्ली [राहुल सिंह]। तीनों केंद्रीय कृषि कानूनों को पूरी तरह से वापस लेने की मांग को लेकर 200 किसानों का धरना प्रदर्शन चल रहा है। इस बीच दिल्ली के जंतर मंतर पर किसान संसद लगाने के लिए आए प्रदर्शनकारियों के कारण दिल्ली में आने वाले लोग डर रहे हैं। उन्हें उपद्रव से लेकर दिल्ली के भीषण जाम का डर सता रहा है, जिसके कारण वह अब अपने निजी वाहनों को छोड़कर मेट्रो व अन्य माध्यम से सफर कर रहे हैं। इसके कारण मेट्रो में भीड़ बढ़ गई है, जिसके कारण स्टेशन के बाहर लोगों को लंबी कतार में लगना पड़ रहा है। हालांकि मेट्रो में पहले से ही 50 फीसद यात्रियों के सफर की अनुमति हैं, जिसके कारण स्टेशनों के बाहर अक्सर कतार लग रही हैं।

दिल्ली के रोहिणी से कनॉट प्लेस में नौकरी करने के लिए आने वाले संदीप यादव ने कहा कि वह रोजाना कार से सफर करते थे, लेकिन बृहस्पतिवार को उन्होंने सड़कों पर प्रदर्शनकारियों के चलते जगह-जगह बैरिकेडिंग की गई थी, जिसके कारण वह शुक्रवार को मेट्रो से सफर कर ऑफिस पहुंचे हैं। उन्होंने कहा कि मेट्रो में भी सफर करने के लिए उन्हें एक घंटे तक कतार में लगना पड़ा है। उन्होंने कहा कि दिल्ली में आना इन दिनों बेहद मुश्किल हो गया है।

दिल्ली की रहने वाली रागिनी गौतम ने बताया कि वह पटेल चौक के पास एक निजी ऑफिस में काम करती हैं, जिसके चलते उन्हें दो दिन से जाम का सामना करना पड़ रहा है। अब कार को घर में छोड़कर कोरोना काल में मजबूरन मेट्रो में सफर करना पड़ेगा। वहीं मेट्रो में सफर करना भी मुश्किल हैं, क्योंकि मेट्रो स्टेशनों के बाहर रोजाना लंबी कतारें लग रही हैं।

Edited By: Jp Yadav