नई दिल्ली [अरविंद कुमार द्विवेदी]। महरौली थाना क्षेत्र में एक युवक ने राहुल बनकर पहले 13 साल की लड़की से दोस्ती की फिर उसे प्यार के जाल में फंसाया। 18 अक्टूबर को वह मासूम को लेकर भाग गया।छतरपुर निवासी लड़की के घरवालों की शिकायत पर पुलिस ने अपहरण का मामला दर्ज कर उसकी तलाश शुरू कर दी है। लड़की की मां ने बताया कि उनकी बेटी आठवीं में पढ़ती है। 18 अक्टूबर की सुबह वह अपनी सहेली के घर जाने की बात कहकर घर से निकली थी। देर शाम तक वापस नहीं आई तो उसकी तलाश शुरू की। सहेली ने बताया कि वह उसके घर आई थी लेकिन शाम को अकेले अपने घर चली गई। एक सीसीटीवी फुटेज में लड़की आरोपित दिलदार कुरैशी उर्फ दिलदार अली (28 वर्ष) के साथ कुतुब मेट्रो स्टेशन की ओर जाते हुए दिखी है।

मां ने बताया कि आरोपित मोहल्ले में ही रहता था और ई-रिक्शा चलाता था। वह अपना नाम राहुल बताता था। वह कहता था कि वह अपनी दिव्यांग बहन सोनी के साथ रहता है जिसके दोनों पैर काम नहीं करते। हालांकि लोगों को बाद में पता चला कि सोनी उसकी पत्नी थी। आरेपित ने अलग-अलग नामों से कई फेसबुक प्रोफाइल बना रखे हैं। आरोपित दिलदार मूलरूप से यूपी के बदायूं जिले के शेगूपुर गांव का रहने वाला है।

गर्भवती दिव्यांग पत्नी के अंतिम संस्कार में भी नहीं आया

सोनी की बहन ने बताया कि 12 सितंबर को सोनी की तबीयत बिगड़ी तो दिलदार ने उसे सफदरजंग अस्पताल में भर्ती करवा दिया। ठीक होने से पहले ही 24 को डिस्चार्ज करवाकर घर छोड़कर भाग गया। पहली अक्टूबर को फिर सोनी की तबीयत बिगड़ी। सोनी ने कई बार फोन किया लेकिन उसने घर आने से मना कर दिया। छह अक्टूबर को सोनी व उसके गर्भ में पल रहे आठ माह के शिशु की मौत हो गई।उसके अंतिम संस्कार में भी दिलदार नहीं आया। सोनी की बहन ने बताया कि 11 माह पहले उसने सोनी को प्रेमजाल में फंसाकर शादी की थी। घरवालों ने यह सोचकर शादी कर दी थी कि उनकी दिव्यांग बेटी का घर बस जाएगा। शादी के कुछ समय बाद ही पता चला कि उसने अपनी पहली पत्नी व उसके दो बच्चों को छोड़ रखा था। यह सब पता चलने के बाद सोनी तो जैसे टूट गई। उसका स्वास्थ्य गिरता गया। गर्भावस्था के दौरान भी दिलदार उसका ध्यान रखने की बजाय दूसरी लड़कियों को प्रेमजाल में फंसाता रहा। आखिरकार सोनी भी जिंदगी जंग हार गई।

पहली बीवी को छोड़ चुका है आरोपित

संगम विहार निवासी दिलदार के भाई ने बताया कि उसने कई साल पहले गांव से एक लड़की को भगाकर शादी की थी। उसके बाद वह गांव नहीं लौटा। उससे एक बेटा व एक बेटी हुई। कुछ साल बाद उसने पहली पत्नी को छोड़ दिया। अब वह दोनों बच्चों के साथ अपने मायके में ही रहती है। भाई ने बताया कि उनके पिता ने भी दो शादी की थी। अभी वह गांव में ही रहते हैं।

Coronavirus: निश्चिंत रहें पूरी तरह सुरक्षित है आपका अखबार, पढ़ें- विशेषज्ञों की राय व देखें- वीडियो

Indian T20 League

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप

kumbh-mela-2021