नई दिल्ली [शुजाउद्दीन]। Delhi Gudiya Assault Case: निर्भया सामूहिक दुष्कर्म के बाद 2013 में गांधी नगर इलाके में हुए दिल दहलाने वाले गुड़िया दुष्कर्म कांड पर फैसला कड़कड़डूमा कोर्ट 18 जनवरी को सुनाएगा। पहले यह फैसला 15 जनवरी को दोपहर में आना था, दिल्ली की निगाहें इस फैसले पर टिकी हुई थी। एक बार फिर से कोर्ट से तारीख मिलने पर पीड़ित के पिता ने दुख जाहिर किया है।

यह मामला दिल्ली की अतिरिक्त सत्र न्यायाधीश नरेश कुमार मल्होत्रा की कोर्ट में चल रहा है। बुधवार को कोर्ट रूम मीडिया से खचाखच भरा हुआ था, पीड़िता के पिता और चाचा की निगाहें न्यायाधीश की ओर टीकी हुई थीं। दोनों आरोपित कठघरे में खड़े हुए थे, उनके चहरे पर जरा भी पछतावा नहीं दिख रहा था। कोर्ट ने पहले एक घंटे बाद फैसला सुनाने के लिए कहा और उसके बाद 18 जनवरी को दोपहर तीन बजे फैसला सुनाने की तारीख दी। इस मामले में कुल 59 गवाहियां हुई है। पीड़िता के अधिवक्ता वीरेंद्र वर्मा ने कहा कि 2012 में हुए निर्भया दुष्कर्म के कुछ महीने बाद ही गांधी नगर में पांच वर्षीय बच्ची के साथ उसी तरह की दरिंदगी हुई थी। उन्होंने कहा कि पीड़िता ने बहुत कुछ दर्द सहा है। उन्होंने उम्मीद जताई की कोर्ट दोनों दोषियों को सख्त से सख्त सजा सुनाएगा।

बता दें कि इन दिनों दिल्ली में 2012 का निर्भया मामला भी चर्चा में है, क्योंकि फांसी को लेकर कानूनी लड़ाई अंतिम चरण में है। यहां पर यह बताना भी जरूरी है कि गुड़िया दुष्कर्म मामला निर्भया (16 दिसंबर, 2012) के छह महीने के भीतर हुआ था। ऐसे में इसको लेकर खूब बवाल मचा था, दिल्ली-एनसीआर में जमकर प्रदर्शन हुआ था। वहीं, सरकार ने भी कड़ी कार्रवाई करते हुए निर्भया और गुड़िया मामले के चलते कानून में भी बदलाव किया था। 

दिल्ली-एनसीआर की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां पर करें क्लिक

Posted By: JP Yadav

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस