नई दिल्ली, ऑनलाइन डेस्क। Covaxin Human Trials: देसी कोरोना वैक्सीन कोवेक्सीन (Covaxin ) का ट्रायल शुक्रवार से शुरू हो जाएगा। इसके तहत चयनित वालंटियर्स को दिल्ली स्थित अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान में टीके लगाने शुरू कर दिए जाएंगे। इस बीच दिल्ली स्थित डॉक्टर डैंग्स लैब (Doctor Dangs Lab) को बड़ी और अहम जिम्मेदारी मिली है। देसी कोरोना वैक्सीन कोवेक्सीन के ह्यूमन क्लीनिकल ट्रायल के लिए डॉक्टर डैंग लैब को सेंट्रल लैब बनाया गया है। डॉ. डैंग्स लैब की ओर से जारी बयान में कहा गया है कि उसने परीक्षण करने के लिए भारत बायोटेक के साथ साझेदारी की है। लैब की ओर से इस बाबत खुशी भी जताई गई है कि वह इस वैक्सीन के निर्माण की दिशा में एक सहयोगी बना है। इसके बाद लैब में स्क्रीनिंग और सेफ्टी टेस्टिंग के लिए सैंपल आने भी लगे हैं। 

गौरतलब है कि एम्स में देशी कोरोना वैक्सीन के ट्रायल की प्रक्रिया शुरू हो चुकी है। इसके तहत शुक्रवार को चयनित वालंटियर्स को कोवेक्सीन (Covaxin) के टीके लगाए जाएंगे। एम्स के सैंपल साइज और सफलता पूरे देश में इसलिए  अहम है, क्योंकि यहां के नतीजे पूरी रिसर्च की दिशा तय करेंगे। बता दें कि एम्‍स पटना और रोहतक पीजीआइ में वैक्‍सीन का ट्रायल पहले ही चल रहा है। गोवा में भी ट्रायल की प्रक्रिया शुरू हो चुकी है।

गौरतलब है कि वैक्‍सीन निर्माता कंपनी, सीरम इंस्‍टीट्यूट ऑफ इंडिया (Serum Institute Of India) अगस्त महीने से कोरोना वायरस वैक्‍सीन का इंसानों पर ट्रायल शुरू करने जा रहा है। कंपनी के मुताबिक, उसे इस साल के अंत तक वैक्‍सीन तैयार करने की उम्‍मीद है। 

यहां पर बता दें कि भारतीय आयुर्विज्ञान अनुसंधान परिषद (Indian Council of Medical Research) के साथ मिलकर भारत बायोटेक इंटरनेशनल लिमिटेड (Bharat Biotech International Limited) ने निष्‍क्रिय वायरस से टीका तैयार किया गया है। जानवरों पर इस टीके का ट्रायल सफल रहा है, अब यह लोगों पर किया जा रहा है, जिसकी प्रक्रिया चल रही है। 

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस