नई दिल्ली [संजीव गुप्ता]। 20 सालों की दिल्ली के लिए राजधानी दिल्ली के लोग सभी ज्वलंत मुद्दों का स्थायी समाधान चाहते हैं। दिल्ली विकास प्राधिकरण (डीडीए) ने भले ही मास्टर प्लान 2041 में पर्यावरण, उज्ज्वल अर्थव्यवस्था, स्वच्छ ईधन के साथ परिवहन की तेज रफ्तार पर जोर दिया है, लेकिन दिल्ली के लोग इसमें कुछ और बदलाव चाहते हैं। इसके लिए अब तक 3949 लोग डीडीए की वेबसाइट एवं ऑनलाइन वेबिनार के माध्यम से सुझाव एवं आपत्ति भेज चुके हैं। नौ जून को डीडीए ने मास्टर प्लान 2041 के ड्राफ्ट को जनता के सुझाव व आपत्तियां प्राप्त करने के लिए वेबसाइट पर डाला था। इसी कड़ी में लोग अपने सुझाव भेज रहे हैं। इसमें ज्यादातर लोगों ने आवासीय क्षेत्रों में ट्रैफिक जाम एवं पार्किंग की समस्या के समाधान की बात कही है। लोगों ने मिक्स लैंड यूज स्ट्रीट के प्रविधान को भी स्पष्ट करने एवं इसकी समीक्षा किए जाने की इच्छा जताई है। मिक्स लैंड यूज स्ट्रीट के प्रविधान को लेकर लोग उलझन में रहते हैं, इसलिए इसमें स्पष्टता आनी चाहिए। इसके अलावा बिगड़ती आबोहवा को लेकर भी दिल्ली वाले चिंतित दिखाई दे रहे हैं। इसीलिए उन्होंने वायु व ध्वनि प्रदूषण के मुद्दों का भी हल निकालने का सुझाव दिया है।

ये सुधार चाहती है दिल्ली की जनता

1. कमर्शियल एक्टीविटी के लिए डेवलेपमेंट के नियमों की समीक्षा की जाए

2. मिक्स लैंड यूज डेवलेपमेंट को हतोत्साहित किया जाए।

3. इंडस्टि्रयल एरिया का पुनर्विकास आवासीय एवं वाणिज्यिक गतिविधियों के साथ हो। इसमें अतिरिक्त ग्राउंड कवरेज व एफएआर भी मिले।

4. गैर अधिसूचित मिक्स लैंड यूज स्ट्रीट पर छोटी दुकान खोलने का प्रविधान किया जाए।

5. अनधिकृत कालोनियों में सोशल एवं फिजिकल इन्फ्रास्ट्रक्चर विकसित किया जाए।

6. यमुना के किनारे रिवर फ्रंट का विकास किया जाए।

7. साइकिल चलाने वालों एवं पैदल चलने वालों की सुरक्षा सुनिश्चित की जाए।

8. आवासीय एवं वाणिज्यिक इलाकों में पार्किंग नियमों को सख्ती से लागू किया जाए।

9. यमुना की सफाई एवं इसका कायाकल्प किया जाए।

10. दिल्ली के नालों का सुंदरीकरण एवं पुनरोद्धार किया जाए।

11. विरासत एवं संस्कृति को बढ़ावा देने के तहत पब्लिक आर्ट वाली जगहों का विकास हो।

लीनू सहगल (योजना आयुक्त, डीडीए) कहना है कि मास्टर प्लान 2041 को लेकर दिल्लीवासी जिस भी माध्यम से सुझाव और आपत्तियां भेज रहे हैं, उन्हें सूचीबद्ध किया जा रहा है। जनसुनवाई के दौरान इन सभी लोगों से संवाद भी किया जाएगा। इसके बाद जो भी सुझाव और आपत्तियां तर्कसंगत और व्यावहारिक होंगे, मास्टर प्लान में उनका समावेश किया जाएगा। 

मास्टर प्लान पर अब 23 अगस्त तक दे सकते हैं सुझाव

डीडीए ने मास्टर प्लान 2041 पर सुझाव एवं अपत्तियां देने की समय सीमा एक माह के लिए बढ़ा दी है। मास्टर प्लान के ड्राफ्ट पर सुझाव देने की अंतिम तारीख 23 जुलाई थी। इसकी तारीख अब बढ़ाकर 23 अगस्त 2021 कर दी गई है। यानी अब लोगों को अपने सुझाव देने के लिए 30 दिन और मिल गए हैं।

Edited By: Jp Yadav