नई दिल्ली, एजेंसी। Delhi Unlock 1: दिल्ली से सटे उत्तर प्रदेश और हरियाणा के आधा दर्जन से अधिक बॉर्डर खोने जाने चाहिए या नहीं? इस पर मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने सुझाव मांगे हैं। इसके लिए दिल्ली सरकार वाट्सऐप नंबर 8800007722 और एक ईमेल delhicm.suggestions@gmail जारी किया है, जिस पर शुक्रवार तक लोगों को अपने सुझाव देने होंगे।

बता दें कि दिल्ली दिल्ली से सटे नोएडा और गाजियाबाद काफी दिनों से सील हैं, जबकि सोनीपत, फरीदाबाद और गुरुग्राम बॉर्डर खोलने को लेकर अभी असमंजस की स्थित है। दरअसल,  हरियाणा सरकार ने कैबिनेट की बैठक में ढील देने का फैसला लिया है। वहीं, उत्तर प्रदेश सरकार ने गाजियाबाद और गौतमबुद्धनगर के उपायुक्त पर सीमा सील को लेकर फैसला लेने का अधिकार दे दिया है। इसके बाद दोनों जिलों के उपायुक्त ने बॉर्डर को सील रखने का निर्णय लिया गया है।

माना जा रहा है कि नोएडा, गाजियाबाद, सोनीपत, फरीदाबाद और गुरुग्राम की सीमाओं पर फिलहाल कोई राहत नहीं दी जाएगी। 

वहीं, गुड़गांव इंडस्ट्रियल एसोसिएशन (Gurgaon Industrial Association) की ओर से मुख्यमंत्री मनोहर लाल को पत्र लिख कर मांग की गई है कि दिल्ली-गुरुग्राम के बीच आवागमन को सुगम बनाया जाए। सीमा पर सख्ती से इंडस्ट्री का भारी नुकसान हो रहा है। दिल्ली में रहने वाले हजारों कामगार, फैक्टरी मालिक व फैक्टरियों में काम करने वाले अधिकारी प्रतिदिन गुरुग्राम आते हैं। जब से सीमा पर सख्ती बढ़ाई गई है तब से औद्योगिक इकाइयों में काम प्रभावित हो रहा है। उद्योग विहार स्थित फैक्टरियों में कामगारों की उपलब्धता कम होने से काम नहीं हो पा रहा है। इससे उद्यमियों को लगातार आर्थिक क्षति हो रही है।जीआइए अध्यक्ष जेएन मंगला का कहना है कि मुख्यमंत्री से मांग की गई है कि औद्योगिक कामकाज को पटरी पर लाने के लिए दिल्ली-गुरुग्राम के बीच आवागमन सुचारू होना जरूरी है। बता दें कि दिल्ली से सटे यूपी और हरियाणा के बॉर्डर सील होने से हजारों लोगों का नौकरी करना मुश्किल हो गया है।

Posted By: JP Yadav

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस