नई दिल्ली [संजीव गुप्ता]। Weather and Monsoon Update for Delhi and NCR: दिल्ली-एनसीआर (Delhi and National Capital Region) ही नहीं, बल्कि पूरे भारत (India) में इस साल मानसून देरी से आया और अब उसके 8-10 दिन देरी से जाने की उम्मीद है। वहीं, बेशक इस बार दिल्ली-एनसीआर में कम बारिश हुई, लेकिन गर्मी और उमस से जूझ रहे लोगों को मानसून राहत देता हुआ जा रहा है। 

दो दिन की बारिश से गिरा तापमान

दिल्ली के विभिन्न इलाकों में शनिवार को हुई झमाझम बारिश का असर रविवार को भी देखने को मिला। दिन भर बादलों की आवाजाही लगी रही और मौसम भी सुहावना ही बना रहा। अधिकतम तापमान सामान्य से चार डिग्री नीचे पहुंच गया। अभी दो तीन दिन और ऐसा ही मौसम बने रहने के आसार हैं। यूं तो रविवार को भी सूरज सुबह ही निकल गया था और धूप खिल गई थी, लेकिन बादल छाए रहने से दिन भर बादलों और सूरज के बीच आंखमिचौली चलती रही। बीच-बीच में तेज हवा भी चलती रही। इससे उमस और गर्मी की तपन भी कम ही रही। इस दौरान सफदरंजग, पालम, लोधी रोड, रिज और आयानगर क्षेत्र में हल्की बरसात भी हुई। 

अगले तीन दिन तक दिल्ली-NCR में बारिश के आसार

रविवार को दिल्ली का अधिकतम तापमान 29.8 डिग्री सेल्सियस रिकॉर्ड किया गया। यह सामान्य से चार डिग्री कम है। न्यूनतम तापमान 23.7 डिग्री सेल्सियस रिकार्ड किया गया जो कि सामान्य से एक डिग्री कम है। पिछले 24 घंटों के दौरान बारिश 23.4 मिलीमीटर दर्ज की गई। भारतीय मौसम विज्ञान विभाग (India Meteorological Department) का अनुमान है कि अगले दो-तीन दिनों के दौरान भी छिटपुट बारिश हो सकती है। इससे उमस भरी गर्मी से और राहत मिलने की संभावना है। हालांकि, झमाझम बारिश होने की उम्मीद अब कम ही है।

फिलहाल संतोषजनक है एयर क्वालिटी इंडेक्स

केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड (Central Pollution Control Board) द्वारा जारी एयर बुलेटिन के मुताबिक रविवार को दिल्ली का एयर इंडेक्स 67 के अंक पर रहा। इसे संतोषजनक श्रेणी में रखा जाता है। शनिवार को यह इंडेक्स 114 के अंक पर रिकॉर्ड किया गया था।

अक्टूबर में विदा होगा मानसून

उत्तराखंड मौसम विज्ञान केंद्र के निदेशक विक्रम सिंह के मुताबिक, 25 से 28 सितंबर तक भी झमाझम बारिश की संभावना है। विक्रम सिंह के मुताबिक, राजस्थान में सबसे पहले सितंबर के प्रथम सप्ताह में मानसून विदा होता है। अभी मानसून की विदाई राजस्थान से नहीं हुई है। ऐसे में उत्तराखंड में मानसून अक्तूबर प्रथम सप्ताह तक सक्रिय रहने की संभावना है। अक्तूबर में ही मानसून विदा होगा।

इन राज्यों में बारिश की संभावना

स्काईमेट वेदर (Skymet Weather) के मुताबिक, मानसून को प्रभावित करने वाले सिस्टमों सबसे प्रमुख सिस्टम गहरे निम्न दबाव के क्षेत्र के रूप में उत्तर-पूर्वी अरब सागर पर दक्षिणी गुजरात के तटों के पास बना हुआ है। वहीं, मानसून का सबसे अधिक प्रभाव अगले 24 घंटों के दौरान उप-हिमालयी पश्चिम बंगाल में कई स्थानों पर जबकि पूर्वोत्तर राज्यों, पूर्वी बिहार, मध्य प्रदेश, दक्षिण छत्तीसगढ़, तेलंगाना, रायलसीमा, दक्षिण आंतरिक कर्नाटक और लक्षद्वीप में होगा, जहां कुछ स्थानों पर मध्यम से भारी बारिश होने की संभावना है। इसके अलावा, पश्चिम राजस्थान, दिल्ली, हरियाणा, पंजाब व जम्मू कश्मीर में मौसम शुष्क रहने के आसार हैं।

कई राज्यों में कम हुई बारिश

मौसम विभाग के मुताबिक आंध्र प्रदेश में 3 फीसदी, उत्तर प्रदेश में 24 फीसदी, बिहार में 23 फीसदी, पंजाब में 5 फीसदी और हरियाणा में अब तक 39 फीसदी कम बारिश हुई है। ऐसे में जमीन में नमी के कम रहने से एक ओर आगामी रबी की फसल को धक्का लगने का डर है। वहीं, दूसरी ओर ज्यादा बारिश हो जाने पर इन जगहों पर खरीफ फसल के नुकसान का भी भय बना हुआ है।

दिल्ली-NCR की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां पर करें क्लिक

Posted By: JP Yadav

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप