Move to Jagran APP

Delhi: लंदन में भारतीय उच्चायोग के बाहर प्रदर्शन करने वालों पर मुकदमा दर्ज, गृह मंत्रालय ने दिया था निर्देश

Protest at Indian High Commission in London देश विरोधी गतिविधियों में शामिल अमृतपाल सिंह के समर्थन में 19 मार्च को लंदन में भारतीय उच्चायोग के सामने प्रदर्शन और तिरंगे का अपमान करने के मामले में दिल्ली पुलिस ने मामला दर्ज कर जांच शुरू कर दी है।

By Jagran NewsEdited By: Nitin YadavPublished: Fri, 24 Mar 2023 11:15 AM (IST)Updated: Fri, 24 Mar 2023 11:15 AM (IST)
Delhi: लंदन उच्चायोग के बाहर प्रदर्शन करने वालों के खिलाफ UAPA के तहत मामला दर्ज।

नई दिल्ली [धनंजय मिश्रा]। देश विरोधी गतिविधियों में शामिल भगोड़े अमृतपाल सिंह के समर्थन में 19 मार्च को लंदन में भारतीय उच्चायोग के सामने प्रदर्शन और तिरंगे का अपमान करने के मामले में दिल्ली पुलिस ने मामला दर्ज कर जांच शुरू कर दी है। स्पेशल सेल की टीम इस मामले में आइबी की मदद ले रही है।

loksabha election banner

शुरुआती जांच में सामने आया है कि प्रदर्शन में कई भारतीय नागरिक शामिल थे। यह लोग भारतीय पासपोर्ट की मदद से ब्रिटेन पहुंचे और यहां पर देश विरोधी गतिविधियों को अंजाम दे रहे हैं। पुलिस ने इस मामले में गैरकानूनी गतिविधियां रोकथाम अधिनियम (यूएपीए) और सार्वजनिक संपत्ति को नुकसान की रोकथाम (पीडीपीपी) की धाराओं के तहत मामला दर्ज किया है।

दिल्ली पुलिस के एक अधिकारी ने बताया कि केंद्रीय गृह मंत्रालय द्वारा दिल्ली पुलिस को इस घटना के संबंध में उचित कानूनी कार्रवाई करने के लिए कहने के बाद यह एफआइआर दर्ज की गई है। घटना में भारतीय नागरिकता रखने वाले कुछ व्यक्तियों द्वारा भी प्रदर्शन और तोड़फोड़ की गई थी। यह लोग देश विरोधी गतिविधियों में शामिल हैं। खुफिया विभाग की तरफ से कुछ प्रदर्शनकारियों की पहचान की गई है इसकी जानकारी स्पेशल सेल को दी गई है।

हालांकि, इनमें से ऐसे कई लोग हैं जो कई वर्ष पहले विदेश गए थे। प्रदर्शन में शामिल जिन लोगों के बारे में खुफिया विभाग को पता चला है उनमें पंजाब के तरनतारन, मजीठा, होशियारपुर और संगरूर के रहने वाले हैं। इन पर स्पेशल सेल जल्द शिकंजा कसने की तैयारी कर रही है। पुलिस खुफिया विभाग की मदद से घटना से संबंधित वीडियो की जांच कर प्रदर्शनकारियों की पहचान कर रही है।

कई देशों से आए थे प्रदर्शनकारी

मामले में पुलिस यह भी पता कर रही कि घटना से पहले लंदन भारत से कितने लाेग गए थे। पुलिस को आंशका है कि उच्चायोग पर आयोजित प्रदर्शन में शामिल होने के लिए कई देशों से खालिस्तान समर्थक आए थे। इनमें कितने ऐसे लोग हैं जिनके पास भारतीय नागरिकता है उसकी जानकारी पुलिस जुटा रही है।

विदेश मंत्रालय ने की थी जांच

स्पेशल सेल के अधिकारियों ने बताया कि 19 मार्च की घटना के बाद विदेश मंत्रालय ने अपने स्तर पर जांच की थी, इसमें पता चला कि घटना में कुछ ऐसे लोग भी शामिल थे जिनके पास भारतीय नागरिकता हैं। जांच की रिपोर्ट गृह मंत्रालय को सौंपी गई फिर गृह मंत्रालय के निर्देश पर दिल्ली पुलिस ने एफआइआर दर्ज किया है।

यह है मामला

19 मार्च को लंदन में भारतीय उच्चायोग के बाहर खालिस्तान समर्थकों की भीड़ ने प्रदर्शन किया था। इस दौरान खालिस्तान समर्थकों ने भारतीय उच्चायोग पर लगे तिरंगे झंडे को जबरन खीचकर उतारने की कोशिश की थी। तिरंगे के अपमान पर भारत ने तीखी प्रतिक्रिया दी थी, जिसके बाद भारत की ओर से दिल्ली में ब्रिटिश राजनयिक को तलब किया और भारतीय उच्चायोग की सुरक्षा पर स्पष्टीकरण की मांग की थी।

विदेश मंत्रालय ने तीखी प्रतिक्रिया देते हुए कहा था कि ब्रिटेन में भारतीय राजनयिक परिसरों और कर्मियों की सुरक्षा में ब्रिटेन सरकार की बेरुखी दिखी, जो किसी भी तरह से स्वीकार नहीं की जा सकती है।


Jagran.com अब whatsapp चैनल पर भी उपलब्ध है। आज ही फॉलो करें और पाएं महत्वपूर्ण खबरेंWhatsApp चैनल से जुड़ें
This website uses cookies or similar technologies to enhance your browsing experience and provide personalized recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.