नई दिल्‍ली [रितिका मिश्रा]। दिल्‍ली के मंडावली की रहने वाली एक लड़की के साथ हुआ हादसा समाज के मुंह पर तमाचा है। कोरोना वायरस होने के शक में उस लड़की को बस ड्राइवर और कंडक्‍टर ने उसे चलती बस से नीचे फेंक दिया। यह शर्मसार करने वाली घटना यूपी के मथुरा में हुई है, जिस पर अब दिल्‍ली की महिला आयोग ने संज्ञान लिया है।

यह है पूरी घटना

दिल्‍ली के मंडावली की रहने वाली एक युवती अपनी मां के साथ यूपी में सफर कर रही थी। उसकी तबीयत खराब होने के कारण उसे कमजोरी लग रही थी। इस वजह से वह ठीक से चल नहीं पा रही थी। इस पर बस ड्राइवर और कंडक्‍टर ने उसे कोरोना होने के शक में चलती बस से नीचे फेंक दिया। इससे उसकी मौके पर ही मौत हो गई। मिली जानकारी के अनुसार, पूर्वी दिल्‍ली के मंडावली की रहने वाली मात्र 19 साल की यह लड़की थी, जिसे पथरी की शिकायत थी। इस कारण उसे दर्द रहता था।

मां ने की थी बचाने की भरपूर कोशिश

इस हादसे के दौरान लड़की की मां ने उसे ऊपर खींच कर बचाने की पुरजोर कोशिश की थी। हालांकि, वह उसे बचा पाने में कामयाब नहीं हो पाई। चलती बस से सड़क पर नीचे गिरते ही उसके सिर में गहरी चोट लगी, जिससे उसकी मौत मौके पर ही हो गई। इस दौरान किसी यात्री ने उसकी मदद नहीं की।

महिला आयोग ने लिया संज्ञान

इसी मामले में दिल्‍ली महिला आयोग ने संज्ञान लेते हुए नोटिस जारी किया है। मथुरा पुलिस से इस मामले में जल्‍द-से-जल्‍द कार्रवाई करने के लिए कहा है। इधर, मथुरा पुलिस ने इस पूरे मामले में महिला के साथ किसी भी प्रकार की मारपीट का दावा नहीं किया है। हालांकि, पुलिस ने मामला दर्ज कर आगे की जांच शुरू की है।

इंडियन टी20 लीग

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस