नई दिल्ली, ऑनलाइन डेस्क। स्वास्थ्य मंत्री सत्येंद्र जैन ने लोगों से अपील करते हुए कहा कि जिसको भी कोरोना की इलाज कराने की आवश्यकता हो, वह रकाबगंज गुरुद्वारा में बनाए गए 400 बेड के कोविड केयर और ट्रीटमेंट सेंटर पर आकर इलाज करा सकता है। इसके अलावा, दिल्ली में इसी तरह के कई अन्य जगहों पर भी सेंटर खोल गए हैं। जिसकी भी तबीयत खराब हो, तो वह ऑक्सीजन का इंतजार न करे, वह सेंटर में भर्ती हो सकता है। हमारे पास बेड की दिक्कत नहीं है। अगर किसी को जरूरत पड़ती है, तो उसे तत्काल आईसीयू में शिफ्ट कर दिया जाएगा।

स्वास्थ्य मंत्री ने एक सवाल के जवाब में कहा कि दिल्ली में कोरोना नियंत्रण को लेकर थोड़ी सी आशा की किरण नजर आ रही है। पिछले कुछ दिनों से लगातार संक्रमण दर भी कम हो रही है और केस की संख्या भी कम हो रही है। आज की तारीख में कोरोना के केस लगभग आधे से भी कम हो गए हैं। कुछ दिन पहले दिल्ली में 28 हजार से अधिक केस आए थे, लेकिन अब दिल्ली में 13 हजार के आसपास केस आ रहे हैं। पहले जहां संक्रमण दर 26 फीसद थी, वह अब घट कर 20 फीसद के आसपास आ गई है। इसलिए अब लग रहा है कि कोरोना जल्द काबू में आ जाएगा। लेकिन हमें अपनी तैयारियों में किसी भी तरह की कमी नहीं छोड़नी है। अभी भी हमें हर तरह से सतर्क रहने की आवश्कता है। कोरोना की मौजूदा लहर, जो देश में दूसरी और दिल्ली में चौथी लहर कही जा रही है, इस लहर को लेकर किसी को अंदाजा नहीं था कि यह इतनी तेजी से आएगी। हमें अभी भी आराम करने की जरूरत नहीं है। सभी को सतर्क रहने की जरूरत है।

दिल्ली में बढ़ाए जा रहे अतिरिक्त आईसीयू बेड के लिए ऑक्सीजन की व्यवस्था को लेकर स्वास्थ्य मंत्री ने कहा कि हम यह मान कर चल रहे थे कि दिल्ली को आवंटित पूरी ऑक्सीजन मिलने लगेगी और हमें एक दिन 700 मीट्रिक टन से अधिक ऑक्सीजन मिली भी थी। हम अभी भी आशा करते हैं कि केंद्र सरकार हमें पूरी ऑक्सीजन जरूर देगी। हम इसको लेकर आश्वस्त हैं। उन्होंने कहा कि रामलीला मैदान में बनाए जा रहे अस्थाई आसीयू अस्पताल बहुत जल्द शुरू हो जाएगा। स्वास्थ्य मंत्री ने वैक्सीन के संबंध में बताया कि हमारे पास दो तरह की वैक्सीन है। कोवैक्सीन का स्टाॅक एक दिन के लिए बचा है और कोविशील्ड का स्टाॅक तीन-चार दिन का बचा है। दिल्ली में वैक्सीन की कमी है। हम चाहते हैं कि हमें जल्द से जल्द वैक्सीन मिले और बहुत जल्द पूरी दिल्ली को वैक्सीन लगा दें।