नई दिल्ली, जागरण संवाददाता। दिल्ली महिला आयोग और दिल्ली पुलिस के लाख प्रयासों के बावजूद राजधानी में देह व्यापार का धंधा थमने का नाम नहीं ले रहा है। ताजा मामले में दिल्ली महिला आयोग ने नई दिल्ली रेलवे स्टेशन से पांच लड़कियों को देह व्यापार कराने वाले गिरोह से मुक्त कराया है। इनमें दो लड़कियां नाबालिग हैं। सभी लड़कियां पश्चिम बंगाल की रहने वाली हैं। काउंसलिंग और मेडिकल जांच के बाद आयोग ने तीन लड़कियों को शेल्टर होम में रखा है। वहीं, नाबालिग लड़कियों को बाल कल्याण समिति के सामने पेश करने के बाद पश्चिम बंगाल पुलिस को सौंप दिया गया। आयोग के एक सदस्य के मुताबिक इन लड़कियों को छुड़ाने के दौरान मौके से एक आरोपित संजू हलधर को गिरफ्तार किया गया है। इस गिरोह में अन्य के शामिल होने की आशंका है।

आयोग के प्रवक्ता राहुल ताहिल्यानी ने बताया कि आयोग को 19 अक्टूबर को एक एनजीओ से सूचना मिली थी कि पांच लड़कियां मानव तस्करी के रैकेट का शिकार हुई हैं। उन्हें दुरंतो एक्सप्रेस के जरिये नई दिल्ली से पश्चिम बंगाल भेजा जा रहा है। सूचना मिलने के बाद आयोग ने चाइल्डलाइन और दिल्ली पुलिस के साथ मिलकर नई दिल्ली रेलवे स्टेशन से उनको प्लेटफार्म नंबर पांच से छुड़ाया।

राहुल ताहिल्यानी ने बताया कि सभी लड़कियों को नौकरी दिलाने का झांसा देकर दिल्ली लाया गया था। बचाई गईं लड़कियों में से एक से दिल्ली में घरेलू सहायिका का भी कार्य कराया गया है। जहां उसके साथ यौन शोषण की भी कोशिश की गई थी। दिल्ली में सभी को मदनपुर खादर गांव के एक कमरे में बंद करके रखा गया था। इनमें से एक लड़की ने अपने साथ हुई घटना की सूचना अपने परिवार को बाद में दी। लड़की के घरवालों ने एक महिला के खिलाफ एफआइआर दर्ज कराई है। आरोपितों ने लड़कियों को दिल्ली में बेचने की भी कोशिश की थी।

आरोपितों की जल्द हो गिरफ्तारी : मालीवाल

दिल्ली महिला आयोग की अध्यक्ष स्वाति मालीवाल ने कहा कि हम अक्सर मानव तस्करी के ऐसे कई मामले देखते हैं, जिसमें गरीब पृष्ठभूमि की लड़कियों को नौकरी दिलाने के बहाने मानव तस्करी का शिकार बना दिया जाता है। इसके बाद वे यौन शोषण की शिकार होती है। यह बहुत जरूरी है कि मानव तस्करी को पूरी तरह से रोका जाए और इसके लिए हमें मानव तस्करी विरोधी कानूनों को मजबूत बनाना होगा और सख्ती से लागू करना होगा। इस मामले में शामिल आरोपितों की जल्द से जल्द पहचान कर उन्हें तुरंत गिरफ्तार किया जाना चाहिए।

Edited By: Jp Yadav