नई दिल्ली, एएनआइ।Coronavirus : दिल्ली राज्य कैंसर संस्थान (Delhi State Cancer Institute) में एक डॉक्टर, नर्सिंग स्टाफ और एक सफाई कर्मचारी कोरोना पॉजिटिव पाए गए हैं। इस तरह इस अस्पताल के 21 स्वास्थ्यकर्मी कोरोना पॉजिटिव पाए गए हैं। वहीं, अस्पताल में भर्ती 19 मरीजों को सैंपल जांच के लिए भेजा गया है, जबकि अस्पताल स्टाफ से जुड़े 45 लोग होम क्वारंटाइन पर हैं।

यहां पर बता दें कि दिलशाद गार्डन का दिल्ली राज्य कैंसर संस्थान कोरोना का हॉट स्पॉट बन चुका है। बुधवार को यहां कोरोना संक्रमण के तीन नए मामले सामने आए। इनमें एक डॉक्टर और दो नर्सिग स्टाफ हैं। इससे पहले दो डॉक्टरों सहित कुल 18 कर्मचारी कोरोना पॉजिटिव पाए गए थे। इन सभी को राजीव गांधी सुपरस्पेशियलिटी अस्पताल में भर्ती करा दिया गया है।

कैंसर संस्थान के निदेशक डॉ. बीएल शेरवाल ने इसकी पुष्टि की है। गौरतलब है कि कैंसर संस्थान के प्रिवेंटिव ऑनकॉलोजी विभाग में कार्यरत एक डॉक्टर सबसे पहले संक्रमित हुए थे। इसके बाद आंकड़ा बढ़ता ही जा रहा है। इसे देखते हुए अस्पताल में कार्यरत सभी डॉक्टरों व नर्सिग स्टाफ के अलावा मरीजों की भी जांच कराई गई है। दरअसल, संक्रमण की चपेट में दूसरे विभाग में कार्यरत नर्सिग स्टाफ भी आए हैं जिनका उस डॉक्टर से संपर्क नहीं था। ऐसे में आशंका यह भी है कि किसी और से भी संक्रमण फैला है, जिसका अभी पता नहीं चल पाया है। यहां कार्यरत 65 डॉक्टर और नर्सिग स्टाफ के सैंपल लिए गए थे।

इसके अलावा 19 मरीजों की भी जांच हुई थी। अब संक्रमित कर्मचारी के परिवार के सदस्यों की भी जांच करवाई जा रही है। इस तरह से अब तक 150 लोगों के सैंपल जांच के लिए भेजे जा चुके हैं। इनमें जो रिपोर्ट आई हैं उनमें 21 संक्रमित हैं, जबकि अधिकतर की रिपोर्ट नेगेटिव है। अभी कई रिपोर्ट आनी बाकी है। आशंका है कि आने वाले दिनों में यह आंकड़ा और बढ़ सकता है। काम पर नहीं लौट रहे नर्सिग स्टाफ को चेतावनी जांच में नेगेटिव आने के बाद भी कुछ नर्सिेग स्टाफ डरे हुए हैं और वे काम पर आने के इच्छुक नहीं हैं।

ऐसे में अस्पताल प्रशासन ने सभी को चेतावनी जारी कर दी है। काम पर नहीं लौटने वाले कर्मचारियों को बर्खास्त तक किया जा सकता है। टेस्ट के बाद ही दूसरे अस्पताल में स्थानांतरित होंगे बचे हुए मरीज कैंसर संस्थान में अभी नौ मरीज भर्ती हैं। इनकी रिपोर्ट का इंतजार किया जा रहा है। रिपोर्ट नेगेटिव आई तो इन्हें निजी अस्पतालों में भर्ती किया जाएगा। वहीं पॉजिटिव पाए जाने पर राजीव गांधी सुपरस्पेशियलिटी अस्पताल में इलाज होगा। कई मरीजों को उनकी हालत को देखते हुए छुट्टी दे दी गई है, वहीं कुछ को निजी अस्पताल में भी भर्ती किया गया है। सभी मरीजों को हटाने के बाद ही कैंसर संस्थान को सैनिटाइज करने का काम शुरू होगा।

 

Posted By: JP Yadav

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस