नई दिल्ली [जेएनएन]। अयोध्या में राम मंदिर निर्माण का मामला सुप्रीम कोर्ट में विचाराधीन होने के बीच विश्व हिंदू परिषद (विहिप) के अंतरराष्ट्रीय संयुक्त महामंत्री डॉ. सुरेंद्र कुमार जैन ने दावा किया कि वर्ष 2018 में राम मंदिर को भव्यता देने का कार्य प्रारंभ हो जाएगा।

जैन एनडीएमसी कंवेंशन सेंटर में विहिप द्वारा आयोजित श्रीराम जन्म भूमि आंदोलन-एक नवजागरण विषयक राष्ट्रीय संगोष्ठी को संबोधित कर रहे थे। उन्होंने राममंदिर आंदोलन का जिक्र करते हुए कहा कि कहा कि आंदोलन के विविध चरणों में लगभग 16 करोड़ लोगों ने भागीदारी कर इसे विश्व का सबसे बड़ा आंदोलन बनाया। इसके साथ ही भारत ने भगवा युग में प्रवेश किया।

विहिप के राष्ट्रीय प्रवक्ता विजय शंकर तिवारी ने कहा कि इसी नव जागरण ने भारत की राष्ट्रीयता को नए सिरे से परिभाषित किया। जिसमें तय हुआ कि भारत बाबर, गजनी, गौरी जैसे विदेशी आक्रांता से नहीं, बल्कि राणा सांगा, महाराणा प्रताप तथा छत्रपति शिवाजी जैसे महापुरुषों के नाम से जाना जाता है। प्रसार भारती के सलाहकार ज्ञानेंद्र बरतारिया ने कहा कि हिंदुत्व ही राष्ट्रीयता है और जन्मभूमि पर मंदिर की भव्यता से ही राष्ट्रमंदिर की पुन: प्रतिष्ठा हो सकेगी।

सनातन धर्म प्रतिनिधि सभा के अध्यक्ष महामंडलेश्वर स्वामी राघवानंद ने कहा कि भगवान श्रीराम की जन्मभूमि पर मंदिर की भव्यता से भारत की अनेक समस्याओं का निराकरण स्वमेव हो जाएगा। गोष्ठी में विहिप के प्रांत महामंत्री बच्चन सिंह, उपाध्यक्ष बृज मोहन सेठी, मीडिया प्रभारी महेंद्र रावत, बजरंग दल के राष्ट्रीय सह-संयोजक सोहन सिंह सोलंकी, प्रांत संयोजक शिव कुमार, सह संयोजक श्याम कुमार, दुर्गा वाहिनी संयोजिका कु. कुसुम समेत अनेक लोग उपस्थित रहे। 

यह भी पढ़ें: 'भाजपा को वोट से ज्यादा मुस्लिमों के विकास की चिंता'

Posted By: Amit Mishra

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप