नई दिल्ली [राकेश कुमार सिंह]। दिल्लीआइटी मंत्रालय से सेवानिवृत्त हुए आइएएस अधिकारी के चालक को बंधक बनाकर तीन बदमाशों ने शुक्रवार देर रात राव तुला राम मार्ग पर नई टाटा हैरियर कार लूट ली। चलती कार में बदमाश आगे व पीछे की सीट के बीच में चालक को नीचे गिराकर बुरी तरह पिटाई करते रहे लेकिन दिल्ली की सड़कों पर कहीं भी पुलिस को भनक नहीं लगी।

गुरुग्राम के घाटा गांव की पहाड़ी पर चलती कार से चालक को फेंकने के बाद बदमाश कार लूटकर भाग गए। खास बात यह है कि घटना के बाद से पीड़ित चालक गुरुग्राम पुलिस के अलावा साउथ कैंपस थाना व नोएडा के सेक्टर 20 थाने के चक्कर काट रहा है लेकिन सीमा विवाद में उलझी तीनों थानों की पुलिस प्राथमिकी दर्ज नहीं कर रही है।

गुरुग्राम के घाटा गांव की संबंधित चौकी पुलिस ने घायल चालक को दिल्ली के साउथ कैंपस थाना पुलिस के पास भेज दिया। साउथ कैंपस थाना पुलिस ने यह कहते हुए प्राथमिकी दर्ज करने से मना कर दिया कि बदमाश नोएडा के सेक्टर 20 में लिफ्ट लेने के बहाने कार में सवार हुए थे। 48 घंटे बाद भी सेवानिवृत्त आइएएस के मामले में पीड़ित की शिकायत पर प्राथमिकी दर्ज न किए जाने के मामले से बड़ा सवाल यह खड़ा हो गया है कि जब वीआइपी के मामले में दिल्ली पुलिस का रवैया ऐसा है तब आम आदमी की शिकायत पर दिल्ली पुलिस कितना गंभीरता दिखाती होगी।

आइएएस नेपाल सिंह शुक्रवार की रात पटना से फ्लाइट से आइजीआइ एयरपोर्ट पर आए थे। उन्हें लाने के लिए उनका चालक नोएडा के सेक्टर 20 से हैरियर लेकर एयरपोर्ट के लिए निकला था। सेक्टर 20 में तीन बदमाशों ने चालक से लिफ्ट मांग कार में बैठ गए। रात करीब 9.30 बजे राव तुला राम मार्ग पर पहुंचने पर एक बदमाश ने पैसे खुले कराने के बहाने कार रुकवा लिया।

कार रोकते ही बदमाशों ने चालक को बंधक बना लिया। उसे सीट के बीच में नीचे की तरफ गिराकर बुरी तरह पिटाई शुरू कर दी। उसका पर्स व मोबाइल लूट लिया। देर रात उसे गुरुग्राम के घाटा गांव के पास पहाड़ी इलाके में कार से बाहर फेंकने के बाद बदमाश कार लूटकर फरार हो गए। वारदात के बाद किसी तरह चालक पैदल चलते हुए कुछ दूर खड़े यातायात पुलिसकर्मी के पास पहुंच कर आपबीती बताई।

पुलिसकर्मियों ने चौकी पुलिस को घटना की सूचना दी। चौकी पुलिस ने घटना साउथ कैंपस में होने की बात बता दिल्ली भेज दिया। साउथ कैंपस थाना पुलिस शनिवार सुबह तक चालक से पूछताछ की। बाद में थानाध्यक्ष ने चालक को बताया कि डीसीपी दक्षिण-पश्चिम जिला मनोज सी ने उन्हें प्राथमिकी दर्ज करने से यह कहते हुए मना कर दिया कि बदमाश नोएडा में कार में सवार हुए थे।

थानाध्यक्ष ने कुछ पुलिसकर्मियों के साथ चालक को सेक्टर 20 थाने भेज दिया। वहां की पुलिस ने भी यह कहते हुए प्राथमिकी दर्ज करने से इंकार कर दिया कि लूटपाट की घटना साउथ कैंपस में हुई है।

Edited By: Pradeep Kumar Chauhan

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट