मोदी सरकार - 2.0 के 100 दिन

नई दिल्ली, जेएनएन। सीमा सुरक्षा बल (बीएसएफ) के जांबाजों ने एक अनोखा विश्व रिकॉर्ड बनाया है। उनका ये विश्व रिकॉर्ड न केवल चौंकाने वाला है बल्कि उनके हौंसले और जज्बे को भी प्रदर्शित करता है। बीएसएफ ने अपने इस रिकॉर्ड को लिम्का बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड में दर्ज कराने के लिए भेजा है।

बीएसएफ की मोटरसाइकिल टीम जांबाज ने छावला स्थित कैंप में हैरतअंगेज प्रदर्शन कर दो कीर्तिमान स्थापित किए हैं। पहला कीर्तिमान सीट पर खड़े होकर अपने कंधे पर एक जांबाज को बिठाकर बिना हैंडल पकड़े बुलेट पर 41 मिनट 12 सेकंड में 19.8 किलोमीटर की दूरी तय करने का है। इसे सुनील यादव, जसवीर कुमार, अर्जुन सिंह व अरिवंद की टीम ने बनाया है।

दूसरा कीर्तिमान रामफल सिंह ने बुलेट मोटरसाइकिल की बायीं तरफ खड़े होकर बिना हैंडल पकड़े लगातार 2 घंटे 11 मिनट 5 सेकंड में 77.6 किलोमीटर की दूरी तय करके स्थापित किया। बीएसएफ ने दोनों रिकॉर्ड को लिम्का बुक ऑफ व‌र्ल्ड रिकॉर्ड में दर्ज करने के लिए भेजा है। सीमा सुरक्षा बल की जांबाज टीम पिछले कुछ दिनों से इस तरह के कीर्तिमान गढ़ने के लिए अभ्यास कर रही थी।

टीम दिल्ली में 25वीं वाहिनी सीमा सुरक्षा बल के आरके वाधवा परेड स्थल पर अभ्यास में जुटी हुई थी। टीम ने पहला कीर्तिमान 15 अक्टूबर को स्थापित किया था जब साइड राइडिंग इवेंट में 3 घंटे 13 मिनट 27 सेकंड में 105.2 किलोमीटर की दूरी तय की थी। वहीं, 17 अक्टूबर को बुलेट पर पीछे बैठकर 3 घंटे 21 मिनट 58 सेकंड में 143.4 किलोमीटर की दूरी तय करके एक और नया विश्व कीर्तिमान स्थापित किया था। इस मौके पर बल के महानिदेशक रजनीकांत मिश्रा ने सभी का उत्साह बढ़ाया। उन्होंने कहा कि उन्हें पूरा भरोसा है कि टीम आगे भी इस तरह के कीर्तिमान स्थापित करेगी।

खतरनाक स्टंट करती है यह टीम
टीम के इंचार्ज द्वितीय कमान अधिकारी सतीश कुमार मिश्रा ने बताया कि यह टीम लगातार खतरनाक स्टंट कर नए कीर्तिमान गढ़ रही है। टीम बिना रुके नई उपलब्धि के लिए पुन: अभ्यास में जुट जाती है। अपने हैरतअंगेज कारनामों के कारण ही इस टीम को जांबाज कहा जाता है। जांबाज टीम अपनी जान की परवाह किए बगैर खतरनाक स्टंट करती है।

संतुलन बनाने का देते हैं प्रशिक्षण
रामपाल सिंह पिछले 15 सालों से इस टीम में स्टंट कर रहे हैं। हरियाणा में सोनीपत जिले के गांव रिढाऊ के रहने वाले रामपाल पिछले 20 वर्षों से सीमा सुरक्षा बल में कार्यरत हैं। आज भी उनकी फुर्ती देखने लायक है। वह इस टीम के संतुलन प्रशिक्षक भी हैं। वह जांबाज के सदस्यों को बताते हैं कि कैसे फुर्ती के साथ संतुलन कायम किया जाए।

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप