नई दिल्ली, जेएनएन। भारतीय जनता पार्टी ने पूर्व महापौर सरिता चौधरी को 'बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ' प्रकल्प के संयोजक पद से हटा दिया है। दरअसल, 19 सितंबर को दिल्ली प्रदेश भाजपा कार्यालय में दक्षिणी दिल्ली के पूर्व महापौर सरिता चौधरी का अपने पति आजाद सिंह विवाद हुआ था।

आजाद सिंह पर पत्नी के साथ मारपीट का आरोप लगने के बाद उन्हें महरौली जिला अध्यक्ष पद से उसी दिन हटा दिया गया था। अब सरिता चौधरी के खिलाफ भी कार्रवाई करते हुए उन्हें 'बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ' प्रकल्प के संयोजक पद से हटा दिया गया है।

ये है पूरा मामला 

महरौली जिला भाजपा अध्यक्ष आजाद सिंह ने प्रदेश भाजपा कार्यालय में पत्नी व दक्षिणी दिल्ली नगर निगम की पूर्व महापौर सरिता चौधरी के साथ मारपीट की थी। इसे गंभीरता से लेते हुए दिल्ली प्रदेश भाजपा अध्यक्ष मनोज तिवारी ने उन्हें पद से हटा दिया था। उनकी जगह जिला महामंत्री विकास तंवर को कार्यवाहक जिला अध्यक्ष की जिम्मेदारी दी गई थी।

दरअसल, प्रदेश कार्यालय में चुनावी प्रभारी प्रकाश जावडेकर ने महरौली जिला के पदाधिकारियों व वरिष्ठ कार्यकर्ताओं की बैठक बुलाई थी। बैठक खत्म होने के बाद कार्यालय परिसर में ही पति-पत्नी के बीच किसी बात को लेकर बहस हो गई। इसी दौरान आजाद सिंह ने पत्नी के साथ मारपीट शुरू कर दी। वहां मौजूद अन्य नेताओं ने किसी तरह से दोनों को अलग किया। जिस समय यह घटना हुई उस समय जावडेकर सहित अन्य नेता कार्यालय में ही मौजूद थे।

सरिता चौधरी रोती हुई उनके पास पहुंचकर शिकायत की। साथ ही उन्होंने 100 नंबर पर फोन करके पुलिस को भी मौके पर बुला ली। वहीं, आजाद सिंह इस घटना के बाद तुरंत कार्यालय से बाहर चले गए। बताते हैं कि पिछले कुछ वर्षों से उनकी अपनी पत्नी के साथ विवाद चल रहा है और फिलहाल दोनों अलग रह रहे हैं।

ये भी पढ़ेंः Delhi: भाजपा नेता ने पूर्व महापौर पत्नी पर उठाया हाथ, पार्टी ने पद छीना

Posted By: Mangal Yadav

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप