नई दिल्ली, जागरण संवाददाता। राजस्थान के उदयपुर में कन्हैया लाल साहू की बर्बरतापूर्ण हत्या की हर ओर निंदा हो रही है। वहीं भाजपा नेता कपिल मिश्रा ने कन्हैया के परिवार की आर्थिक मदद के लिए इंटरनेट के जरिये आनलाइन दान लेकर एक करोड़ रुपये जुटा लिए हैं। उनकी अपील पर 24 घंटे के अंदर क्राउड कैश नामक वेबसाइट पर साढ़े नौ हजार से ज्यादा लोगों ने आनलाइन दान दिया है।

कपिल मिश्रा ने बताया कि मंगलवार रात 10:00 बजे आनलाइन दान के लिए ट्वीटर और फेसबुक पर अपील डाली गई थी। इसके बाद लोगों ने बुधवार शाम तक 1,02,31,533 रुपये दान में दिए हैं। उन्होंने कहा कि हमारा लक्ष्य 1,25,00,000 रुपये है। इसमें एक एक करोड़ रुपये कन्हैया की पत्नी दिए जाएंगे। 25 लाख रुपये कन्हैया को बचाने के प्रयास में घायल हुए ईश्वर ¨सह को दिए जाएंगे।

उन्हें उम्मीद है कि बृहस्पतिवार सुबह तक लक्ष्य पूरा हो जाएगा। इसके एक-दो दिन बाद वह उदयपुर जाकर दोनों के परिवार से मुलाकात करेंगे और उन्हें आर्थिक मदद देंगे। उन्होंने बताया कि आनलाइन दान करने वाले कई लोगों ने अपना नाम गुप्त रखा है। सौ रुपये से लेकर एक लाख रुपये तक का लोगों ने दान दिया है। कपिल मिश्रा ने कहा कि उदयपुर की इस घटना ने सभी को झकझोर कर रख दिया है। पूरा देश इस समय पीडि़त परिवार के साथ खड़ा है।

एबीवीपी ने जेएनयू में निकाला कैंडल मार्च

उदयपुर में कन्हैयालाल की नृशंस हत्या से पूरा देश आहत है। कन्हैयालाल की निर्मम हत्या के खिलाफ एबीवीपी ने जेएनयू में प्रदर्शन और कैंडल मार्च निकाला। एबीवीपी ने कहा कि कन्हैया लाल की कट्टरपंथियों द्वारा निर्मम हत्या के लिए गहलोत सरकार जिम्मेदार है। वक्त रहते अगर उनको सुरक्षा दी गई होती तो वे जिंदा होते। एबीवीपी ने आरोप लगाया कि जेएनयू कैंपस में वामपंथी छात्र संगठन इस घटना को धार्मिक रंग देने की कोशिश कर रहे हैं। वे छात्र समुदाय में जहर घोलने का काम कर रहे हैं। बुधवार को आइसा ने मोदी सरकार के खिलाफ परिसर में प्रदर्शन भी किया।

एबीवीपी ने कहा कि जेएनयू के छात्र अब वामपंथी छलावे से दूर जा चुके हैं। इसका प्रमाण है कि 250 से अधिक विद्यार्थियों ने प्रदर्शन और कैंडल मार्च में हिस्सा लिया। एबीवीपी के जेएनयू इकाई के अध्यक्ष रोहित कुमार ने बताया कि कन्हैयालाल हत्याकांड से समूचा देश स्तब्ध है। अशोक गहलोत की कांग्रेस सरकार न्याय व्यवस्था के मामले में विफल साबित हुई है। हमारी मांग ये है की आतंकवादियों और उनके समर्थकों पर तुरंत सख्त कार्रवाई की जाए। इकाई मंत्री उमेश अजमीरा ने बताया कि जेएनयू के कुछ छात्र संगठन ऐसे भी हैं, जो इस हत्याकांड का अप्रत्यक्ष रूप से समर्थन कर रहे हैं। एबीवीपी ने दोषियों को सख्त से सख्त सजा देने और पीडि़त परिवार को उचित मुआवजा दिए जाने की मांग की।

Edited By: Vinay Kumar Tiwari